बच्चे के जन्म के बाद वजन कम करना; ये 5 योग हैं फायदेमंद

बच्चे के जन्म के बाद वजन कम करना; ये 5 योग हैं फायदेमंद

सिजेरियन सेक्शन के बाद महिलाओं का वजन बढ़ना शुरू हो जाता है। अगर इस वजन को समय रहते नियंत्रित नहीं किया गया तो स्थायी मोटापा हो जाता है।

योग

दिल्ली, 25 जून : प्रसव के बाद महिलाओं का वजन बढ़ता है। कभी-कभी वजन बढ़ना डिलीवरी के बाद लिए गए स्वस्थ आहार के कारण भी होता है। सी सेक्शन डिलीवरी (सी रोंकार्रवाई वितरण) इसका मतलब यह हुआ कि सिजेरियन के बाद भी महिलाओं का वजन बढ़ जाता है(भार बढ़ना) यह। इस वजन का समय पर नियंत्रण (नियंत्रण) यदि अप्रबंधित छोड़ दिया जाता है, तो वे भटक सकते हैं और सही मार्ग खो सकते हैं। शरीर की चर्बी(शरीर की चर्बी)एक बार बढ़ जाने के बाद इसे कम करना बहुत मुश्किल होता है। उचित आहार और योग से वजन कम होगा। वजन घटाने के लिए योगासन के फायदे बहुत बड़े हैं। यहां 5 योगासन हैं जो वजन कम करने में आपकी मदद कर सकते हैं।

भुजंगासन

भुजंगासन को ही सर्पसन या कोबरा आसन या सर्प मुद्रा कहा जाता है। इस आसन में शरीर सांप के समान हो जाता है। इस आसन को करना बहुत ही आसान है। इसके लिए आप एक योगा मैट पर पेट के बल लेट जाएं। अपनी बाहों को सीधे आगे रखें। अब अपने हाथों को जमीन पर टिकाएं और पेट को पीछे की तरफ उठाने की कोशिश करें। थोड़ी देर बाद पूर्व स्थिति में आ जाएं। कुछ दिन पहले अभिनेत्री माधुरी दीक्षितयोग दिवस के मौके पर इस आसन का एक वीडियो शेयर किया।

पथ प्रदर्शन

इस बैठने की स्थिति में शरीर का आकार एक नाम के आकार का होता है, इसलिए इसे नौकासन कहा जाता है। योगा मैट पर पीठ के बल लेट जाएं। अब इस पर अपना हाथ रखो। पैरों और पूरे शरीर पर उठाने की कोशिश करें। यह शरीर का भार कमर पर ढोता है। इससे पेट की मांसपेशियों पर तनाव पड़ता है। इस आसन को करने से पेट की मांसपेशियां मजबूत होती हैं।

उष्ट्रासन

उष्ट्रासन अच्छे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए बहुत फायदेमंद है। उष्ट्रासन में शरीर ऊंट के आकार का होता है। इसलिए इसे उष्ट्रासन कहा जाता है। सोफे पर बैठो। शरीर को सख्त करो। अब हाथों के सहारे पीछे हटने की कोशिश करें। पैर की एड़ी को अपने हाथ से पकड़ें।

मत्स्यासन

शरीर का आकार मछली जैसा है। इसलिए इसे मत्स्यासन कहा जाता है। मछली पकड़ने से छाती की मांसपेशियां मजबूत होती हैं। दोनों घुटनों को जितना हो सके मोड़ें और हथेलियों पर ले लें। पीठ और कंधों को कोनों पर उठाएं और खोपड़ी को सहारा दें। गर्दन को कस लें। हाथों को पैर की उंगलियों को पकड़ना चाहिए। जांघें जमीन पर टिकी रहनी चाहिए। इससे पेट पर दबाव पड़ेगा।

मार्जरासन

मरजारासन का अर्थ है बिल्ली की मुद्रा। इसमें शरीर का आकार बिल्ली की तरह होता है। इससे पीठ की मांसपेशियां मजबूत और लचीली बनती हैं। योग मैट पर घुटनों के बल बैठ जाएं। अब हाथ के बेस से आगे बढ़ें। श्वास लें और गर्दन को मोड़ें। सांस छोड़ें और गर्दन को नीचे लाएं। इस समय अपने पेट को अंदर ले जाकर पीठ के बल करें।

News Hindi TV

Latest hindi News Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *