सॉफ्टवेयर क्या है? | What is Software in Hindi?

सॉफ्टवेयर क्या है? और इसके प्रकार क्या हैं? | What is software? And what are its types?

आज की 21वीं सदी (सॉफ्टवेयर क्या है?) कंप्यूटर, मोबाइल, लैपटॉप, टैबलेट जैसी कई इलेक्ट्रॉनिक स्मार्ट वस्तुओं से घिरी हुई है। आजकल कंप्यूटर इंसान की आदत हो गई है, दुनिया अब कंप्यूटर के सहारे चल रही है। कंप्यूटर ने इंसान के हर काम को आसान बना दिया है।  (सॉफ्टवेयर क्या है?)

एक कंप्यूटर कई छोटे और बड़े उपकरणों को एक साथ जोड़कर बनाया जाता है। कंप्यूटर घटकों को दो मुख्य प्रकारों में बांटा गया है- 1) हार्डवेयर, 2) सॉफ्टवेयर। एक कंप्यूटर इन दोनों प्रकार के उपकरणों से ठीक से जुड़ा हुआ होता है। हार्डवेयर डिवाइस कंप्यूटर का शरीर है और सॉफ्टवेयर आत्मा है। (सॉफ्टवेयर क्या है?)

आज के लेख में हम हिंदी में सॉफ्टवेयर सॉफ्टवेयर सूचना के बारे में जानकारी लेने जा रहे हैं। चाहे वह मोबाइल हो, कंप्यूटर हो, लैपटॉप हो या कोई भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, सॉफ्टवेयर इसे काम करने में मदद करने के लिए आवश्यक है। यदि कोई सॉफ्टवेयर नहीं है, तो वे उपकरण एक बेजान मानव शरीर की स्थिति में हैं। तो ज्यादा समय बर्बाद न करते हुए आइए समझते हैं कि सॉफ्टवेयर क्या है हिंदी में कंप्यूटर सॉफ्टवेयर क्या है। (सॉफ्टवेयर क्या है इन हिंदी)

सॉफ्टवेयर क्या है?
सॉफ्टवेयर क्या है?

सॉफ्टवेयर क्या है हिंदी में | What is software in Hindi?

सॉफ्टवेयर (सॉफ्टवेयर हिंदी में) निर्देशों या कार्यक्रमों का एक समूह है जो कंप्यूटर को कोई भी कार्य करने का निर्देश देता है। सॉफ्टवेयर उपयोगकर्ता द्वारा दिए गए इनपुट को प्रोग्राम में परिवर्तित करता है और कंप्यूटर को भेजता है। संक्षेप में, सॉफ्टवेयर उपयोगकर्ता और कंप्यूटर के बीच संचार का एक माध्यम है। (सॉफ्टवेयर क्या है?)

सॉफ्टवेयर कोई भौतिक उपकरण (सॉफ्टवेयर क्या है?) या वस्तु नहीं बल्कि एक लिखित रूप है। हम सॉफ्टवेयर को अपनी आंखों से नहीं देख सकते हैं और हम इसे अपने हाथों से नहीं छू सकते हैं। कंप्यूटर के प्रत्येक हार्डवेयर उपकरण में सॉफ्टवेयर की एक विशेष विशेषता स्थापित होती है। सॉफ्टवेयर के बिना माउस, की-बोर्ड, हार्ड डिस्क, मॉनिटर, मॉनिटर जैसी कोई डिवाइस काम नहीं करती है। (सॉफ्टवेयर क्या है?)

सॉफ्टवेयर में निर्देश लिखित रूप में हैं। कंप्यूटर को लिखित रूप में निर्देश देने के लिए मनुष्यों द्वारा कई भाषाओं का विकास किया गया है, उन्हें प्रोग्रामिंग भाषा कहा जाता है। सॉफ़्टवेयर डेवलपर इन भाषाओं की सहायता से विभिन्न सुविधाओं को जोड़कर सॉफ़्टवेयर बनाते हैं। सॉफ्टवेयर बनाने या डिजाइन करने की प्रक्रिया को कोडिंग या प्रोग्रामिंग कहा जाता है। (सॉफ्टवेयर क्या है?)

आप वर्तमान में इस लेख को एक वेब ब्राउज़र पर पढ़ रहे हैं, जो एक सॉफ्टवेयर भी है। मोबाइल में ऐप्स, गेम्स सभी एक तरह के सॉफ्टवेयर हैं। इसके अलावा, कंप्यूटर माइक्रोसॉफ्ट वर्ड, माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस, एडोब रीडर और ऐसे कई अन्य सॉफ्टवेयर से भरा हुआ है। हार्डवेयर कंप्यूटर का शरीर है जबकि सॉफ्टवेयर मस्तिष्क है जो प्रत्येक अंग को निर्देशित करता है। (सॉफ्टवेयर क्या है?)

सॉफ्टवेयर के प्रकार -Types of software in Hindi

सॉफ्टवेयर (सॉफ्टवेयर हिंदी में) का उपयोग विभिन्न कार्यों के लिए किया जाता है, इसलिए इसे विभिन्न प्रकारों में विभाजित किया जाता है। कंप्यूटर सॉफ्टवेयर मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं- (सॉफ्टवेयर क्या है और इसके प्रकार)

1) सिस्टम सॉफ्टवेय | System Software 

2) एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर | Application Software 

आइए सॉफ्टवेयर के प्रकारों को विस्तार से समझते हैं।

1) सिस्टम सॉफ्टवेयर | System Software 

हार्डवेयर उपकरणों को नियंत्रित और संचालित करने के लिए उपयोग किए जाने वाले सॉफ़्टवेयर को सिस्टम सॉफ़्टवेयर कहा जाता है। यह सॉफ्टवेयर बाहरी सॉफ्टवेयर को भी नियंत्रित करता है। सिस्टम सॉफ्टवेयर पूरे कंप्यूटर सिस्टम को नियंत्रित करने के लिए जिम्मेदार है। सिस्टम सॉफ्टवेयर के चार मुख्य प्रकार हैं (सिस्टम सॉफ्टवेयर क्या है) –

a) ऑपरेटिंग सिस्टम – एक ऑपरेटिंग सिस्टम एक प्रोग्राम है जो अन्य कंप्यूटर प्रोग्राम को संचालित करता है। सभी हार्डवेयर भागों को ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा नियंत्रित किया जाता है। मोबाइल, लैपटॉप जैसे उपकरणों को संचालित करने के लिए एक विशेष प्रकार का ऑपरेटिंग सिस्टम बनाया जाता है। उदाहरण के लिए Android, IOS, macOS, Windows, Linux, E

b) उपयोगिताएँ – उपयोगिताएँ एक प्रकार की सुरक्षा और प्रबंधन कार्यक्रम हैं। उपयोगिताएँ कंप्यूटर के प्रदर्शन को बनाए रखने या सुधारने के लिए डिज़ाइन की गई हैं। उपयोगिताएँ ऑपरेटिंग सिस्टम में अतिरिक्त सुविधाएँ जोड़ने का काम करती हैं। उदाहरण के लिए – डेटा बैकअप, एंटीवायरस, फ़ायरवॉल, सिस्टम डायग्नोसिस, उदा।

c) डिवाइस ड्राइवर – डिवाइस ड्राइवर का उपयोग कंप्यूटर के पुर्जों और सिस्टम को जोड़ने के लिए किया जाता है। डिवाइस ड्राइवर ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ मिलकर काम करते हैं। जब हम कीबोर्ड को कंप्यूटर से जोड़ते हैं, तो कीबोर्ड की कार्यप्रणाली को जारी रखने के लिए कीबोर्ड ड्राइवर पहले से ही कंप्यूटर सिस्टम में स्थापित होता है। उदाहरण के लिए – USB ड्राइवर, ROM ड्राइवर, VGA ड्राइवर, प्रिंटर ड्राइवर, माउस ड्राइवर

d) भाषा अनुवादक – प्रोग्रामिंग भाषा लिखित रूप में होती है, कंप्यूटर इस भाषा को सीधे नहीं समझता है, इसलिए भाषा अनुवादक इस भाषा को मशीनी भाषा में बदल देता है। सभी कंप्यूटर सॉफ्टवेयर एक प्रोग्रामिंग भाषा में लिखे जाते हैं, लेकिन कंप्यूटर केवल मशीनी भाषा जानता है। इस वजह से, सॉफ्टवेयर और कंप्यूटर सिस्टम लैंग्वेज ट्रांसलेटर के माध्यम से जुड़े हुए हैं। जैसे… कंपाइलर, इंटरप्रेटर, असेंबल

2) एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर | Application Software 

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर (सॉफ्टवेयर हिंदी में ) को एंड यूजर सॉफ्टवेयर कहा जाता है, क्योंकि इसका यूजर से सीधा संपर्क होता है। इस सॉफ़्टवेयर का उपयोग उपयोगकर्ता द्वारा किसी विशिष्ट कार्य को करने के लिए किया जाता है। इसे हम एप्स भी कहते हैं। एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल गाने सुनने, वीडियो देखने, गेम खेलने के लिए किया जाता है।

a) बेसिक एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर – बेसिक एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को सामान्य प्रयोजन सॉफ्टवेयर कहा जाता है। ये कॉमन यूज सॉफ्टवेयर हैं। इनका उपयोग दैनिक गतिविधियों जैसे गाने सुनना, वीडियो देखना, गेम खेलना आदि के लिए किया जाता है। जैसे…

  • Word Processing Programs
  • Multimedia Programs
  • DTP Programs
  • Graphics Application
  • Presentation Programs

b) स्पेशलाइज्ड एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर – स्पेशलाइज्ड एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को स्पेशल परपज सॉफ्टवेयर कहा जाता है। इन्हें विशेष कार्यों के लिए बनाया गया है। म्यूजिक प्लेयर, वीडियो एडिटर, सोशल मीडिया ऐप्स और जिस वेब ब्राउजर को आप इस लेख को पढ़ रहे हैं, वह भी इसी श्रेणी में आता है। जैसे…

  • Billing System
  • Payroll Management System
  • Report Card Generator
  • Accounting Software
  • Reservation System

सॉफ्टवेयर कैसे बनाते हैं? | How to make Software?

सॉफ्टवेयर बनाना एक कठिन काम है, इसके लिए अच्छे अध्ययन और अभ्यास की आवश्यकता होती है। सॉफ्टवेयर बनाने के लिए प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखने की जरूरत होती है। वर्तमान में, पायथन, सी, सी ++, जावा जैसी कई प्रोग्रामिंग भाषाएं हैं। एक व्यक्ति सभी भाषाओं को सीखने के लिए बाध्य नहीं है। वह कोई भी भाषा चुन सकता है जिसे वह सीखना चाहता है। प्रोग्रामिंग में कुशल व्यक्ति को प्रोग्रामर या सॉफ्टवेयर डेवलपर कहा जाता है।

सॉफ्टवेयर डेवलपर बनने के लिए कंप्यूटर इंजीनियरिंग फायदेमंद है, क्योंकि यह कोर्स विभिन्न प्रोग्रामिंग भाषाओं का ज्ञान प्रदान करता है। यदि आप कंप्यूटर या आईटी क्षेत्र में नहीं हैं तो भी आप एक सॉफ्टवेयर डेवलपर बन सकते हैं। प्रोग्रामिंग सीखने के लिए इंटरनेट पर हजारों फ्री कोर्स उपलब्ध हैं। सबसे लोकप्रिय वीडियो ऐप में YouTube पर प्रोग्रामिंग के लिए कई चैनल हैं। आप इनका उपयोग करके सॉफ्टवेयर बनाना सीख सकते हैं।

कुछ लोकप्रिय प्रोग्रामिंग भाषाओं के नाम-

  • Python
  • Java Script
  • C Language
  • C#
  • C++
  • PHP
  • Java Language
  • Swift
  • Kotlin
  • TypeScript

निष्कर्ष
आज के लेख में कंप्यूटर सॉफ्टवेयर की जानकारी हिंदी में समझी गई है। (सॉफ्टवेयर क्या है?) मुझे उम्मीद है कि आप पूरी तरह से समझ गए होंगे कि सॉफ्टवेयर क्या है। मैंने यथासंभव अधिक से अधिक जानकारी प्रदान करने का प्रयास किया है।

अगर आपने इस लेख में कुछ नया सीखा है, तो इस लेख को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया के माध्यम से साझा करना न भूलें। अगर लेख से संबंधित कोई समस्या या संदेह है तो कमेंट बॉक्स में जरूर पूछें। आपकी समस्या का समाधान अवश्य होगा। (सॉफ्टवेयर क्या है?)

आप इस लेख के बारे में क्या सोचते हैं, मुझे बताएं कि सॉफ्टवेयर क्या है? टिप्पणी करके। कंप्यूटर, ब्लॉगिंग, इन्टरनेट से सम्बंधित अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए इस वेबसाइट को बार-बार विजिट करते रहें। (सॉफ्टवेयर क्या है?)

और पढ़े :

रैम क्या है? | What is RAM? 

इंटरनेट क्या है? | What is Internet in Hindi?

News Hindi TV

Latest hindi News Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published.