हल्दी के ‘ऐसे’ इस्तेमाल से खत्म हो जाएगी यूरिक एसिड की समस्या

हल्दी के ‘ऐसे’ इस्तेमाल से खत्म हो जाएगी यूरिक एसिड की समस्या

हाल के दिनों में, उच्च यूरिक एसिड का स्तर एक गंभीर समस्या बन गया है। यूरिक एसिड बढ़ने से जोड़ों में दर्द होता है।

हल्दी

दिल्ली, 23 जुलाई: गठिया (जोड़ों का दर्द) यदि समस्या जल्दी शुरू होती है, तो इसे समय पर संबोधित किया जाना चाहिए। बदली हुई जीवन शैली (जीवनशैली), अस्वास्थ्यकर खाना (जंक फूड) इससे कुछ गलत तत्व शरीर में चले जाते हैं। इसके दुष्प्रभाव (बुरा प्रभाव) आपके शरीर पर होता है। इन आदतों के कारण होने वाली समस्याओं में से एक है शरीर में यूरिक एसिड (यूरिक अम्ल) बढाना

हल्दी के फायदे

हाल के दिनों में बढ़ा हुआ यूरिक एसिड एक गंभीर समस्या है (गंभीर समस्या) हो गयी है। हमारा शरीर किडनी है (गुर्दा) यूरिक एसिड को फिल्टर करता है

अगर शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है तो इस एसिड को फिल्टर करना मुश्किल हो जाता है और इसी वजह से खून में यूरिक एसिड बढ़ने लगता है और जोड़ों में दर्द होने लगता है।

यूरिक एसिड की समस्या

यूरिक एसिड बढ़ने से जोड़ों में दर्द होता है। चलना, उठना और बैठना भी मुश्किल हो जाता है। जैसे-जैसे यूरिक एसिड शरीर में बनता है, यह जोड़ों में बनता जाता है। इसे कम करने के लिए कई घरेलू उपाय हैं।

 

उपचारात्मक हल्दी

इस समस्या के लिए हल्दी अच्छी होती है। हर किसी की रसोई में हल्दी होती है। हल्दी यूरिक एसिड को कंट्रोल करने में सबसे कारगर है। इसमें करक्यूमिन नामक पदार्थ होता है। जो यूरिक एसिड को नियंत्रित करने के लिए उपयोगी है। यूरिक एसिड के उच्च स्तर से गठिया होने की संभावना अधिक होती है। हाइपरयूरिसीमिया वाले लोग जोड़ों में दर्द, मांसपेशियों में अकड़न और सूजन का अनुभव करते हैं। जोड़ों के दर्द पर 2016 के शोध के अनुसार करक्यूमिन उपयोगी है। तो, 2013 में किए गए शोध के अनुसार, करक्यूमिन में फ्लेक्सोफाइटोल नामक एक घटक होता है।

 

जिससे दर्द कम होता है। विशेषज्ञों के अनुसार यूरिक एसिड को नियंत्रित करने के लिए हल्दी का उपयोग किया जा सकता है। हल्दी सेहत के लिए अच्छी होती है। रोज रात को हल्दी वाला दूध पीने से पैरों की सूजन कम हो जाती है। हल्दी वाला दूध बनाते समय उसमें एक चुटकी काली मिर्च पाउडर का इस्तेमाल करें। इसके अलावा हल्दी की चाय भी पी जाती है।

 

हल्दी में पाए जाने वाले करक्यूमिन कैप्सूल को गठिया के लिए भी लिया जा सकता है। हालांकि, ऐसे कैप्सूल लेते समय डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। जोड़ों के दर्द में हल्दी का लेप लगाने से भी आराम मिलता है। इसके लिए थोड़ी सी हल्दी और पानी को मिलाकर पेस्ट बना लें। इस मिश्रण को दर्द वाली जगह पर लगाएं। गीली हल्दी का भी उपयोग किया जा सकता है।

 

News Hindi TV

Latest hindi News Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *