हर महीने 18 करोड़ की कोविड वैक्सीन की डोज..?

हर महीने 18 करोड़ की कोविड वैक्सीन की डोज..? हंगामे पर केंद्र का जवाब!

मुख्य विशेषताएं:

  • प्रति माह 12 करोड़ खुराक का सहसंयोजक ढाल उत्पादन
  • हर महीने 5.8 करोड़ डोज का कोवैक्सीन उत्पादन
  • नवंबर में अतिरिक्त चार टीके उपलब्ध हैं
कोविड वैक्सीन
कोविड वैक्सीन

नई दिल्ली: पूरे देश में कोरोना केंद्र सरकार ने कहा कि टीके के खराब होने पर जनता के आक्रोश के बावजूद, कोविशील्‍ड और कोवैक्‍सीन टीकों का उत्पादन बढ़ा दिया गया है।

“दिसंबर के अंत तक, पुणे का सीरम संस्थान हर महीने सहसंयोजक ढाल की 12 करोड़ खुराक का उत्पादन करेगा और हैदराबाद में भारत बायोटेक हर महीने कोवासिन की 5.8 करोड़ खुराक का उत्पादन करेगा।” इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए उत्पादकता बढ़ाने के लिए कदम उठाए जाएंगे टीका निर्माताओं ने वादा किया है, ”केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने मंगलवार को राज्यसभा को बताया। वर्तमान में प्रति माह 11 करोड़ डोज और 2.5 करोड़ डोज की कोवैलेंट परिरक्षण का उत्पादन किया जा रहा है।

अक्टूबर में 4 टीके: अक्टूबर-नवंबर में वैक्सीन बनाने वाली अतिरिक्त चार कंपनियां देश के वैक्सीन अभियान का हिस्सा होंगी। बायोलॉजिकल ई, नोवार्टिस और जिडस कैडिला के साथ एक और घरेलू कंपनी के टीके जनता के लिए उपलब्ध कराए जाएंगे। “इससे वैक्सीन अभियान की गति बढ़ेगी,” उन्होंने कहा।

कोई कॉकटेल वैक्सीन नहीं: स्वास्थ्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने संक्रमण की रोकथाम के लिए कोरोना वायरस वैक्सीन मिक्स के राज्याभिषेक की रिपोर्ट पर टिप्पणी करते हुए कहा: इस तरह के वैज्ञानिक अध्ययन अभी शुरुआती दौर में हैं। यहां तक ​​कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी इसकी सिफारिश नहीं की है।

रेमेडिसविर उत्पादन: एंटीवायरल दवा रेमेडिसविर का उत्पादन जून में बढ़कर 1.22 करोड़ खेतों में पहुंच गया। अप्रैल में करीब 38 लाख खेत थे। सरकार ने राज्यसभा को सूचित किया है कि इस दवा का उपयोग केवल उन डॉक्टरों की देखभाल में किया जा रहा है जो कोरोना से गंभीर बीमारी के कारण वेंटिलेटर से संक्रमित हो गए हैं।

‘देश भर के निजी अस्पतालों में अप्रयुक्त टीकों का प्रचलन 7 से 9 प्रतिशत के बीच है। उन्हें सरकार द्वारा वापस लिया जा रहा है और उनके किले में लोगों तक पहुंचाया जा रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि निजी अस्पतालों के टीके की दरों में कटौती की जरूरत नहीं है।

‘E-rupi’ क्या है?

News Hindi TV

Latest hindi News Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published.