डेल्टा के बाद अब एटा संस्करण में पहला मरीज मिला

डेल्टा के बाद अब एटा संस्करण में पहला मरीज मिला; कितना भयानक है कोरोना का ये नया रूप?

बेंगलुरु, 08 अगस्त: एक देश में डेल्टा (डेल्टा), डेल्टा प्लस (डेल्टा प्लस) जहां कोरोना की चिंता थी, वहीं अब कोरोना का एक और नया रूप सामने आया है (कोरोना संस्करण) सामने आया है। डेल्टा के बाद अब एटा कोरोना वेरिएंट (एटा संस्करण) मिल गया है। कर्नाटक में (कर्नाटक) कोरोना के इस वैरिएंट का पहला मरीज मिला था (Karnataka Eta variant) है। तो जोश उड़ जाता है। कर्नाटक के मैंगलोर में एटा वेरिएंट का पहला मामला सामने आया है। मैंगलोर में गुरुवार को एक व्यक्ति को एटा वैरिएंट का पता चला था।स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, उस व्यक्ति को चार महीने पहले काट दिया गया था। लेकिन एटा संक्रमण का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले अप्रैल 2020 में राज्य में एटा वेरिएंट का एक मरीज मिला था, राज्य नोड अधिकारी और कोरोना होल जीनोम सीक्वेंसिंग कमेटी के अध्यक्ष डॉ। वी रवि ने कहा।
जानकारों के मुताबिक मैंगलोर में पाया जाने वाला एटा वैरिएंट का संक्रमण अब चिंता का विषय नहीं है। यह संस्करण अभी भी Iota, Kappa और Lambda की तरह रुचि का एक प्रकार है। इस वेरिएंट पर अभी शोध किया जा रहा है। परंतु अल्फा, बीटा, गामा, डेल्टा और डेल्टा प्लस वेरिएंट चिंता का कारण हैं। यह संस्करण संक्रमण को गति देता है।
विशेषज्ञों ने कहा कि एटा संस्करण तीसरी लहर के लिए खतरा पैदा नहीं करता है। क्योंकि यह वेरिएंट पुराना है, लेकिन कंफर्म नहीं है। अगर यह खतरनाक होता तो अब तक कई मामले हो चुके होते।

 

अपनी उम्र से अधिक संपत्ति वाला एक युवा नेता

News Hindi TV

Latest hindi News Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *