Side Effects Of Tea | लगातार चाय पीने से पहले जानिए इसके 5 गंभीर साइड इफेक्ट्स!

Side Effects Of Tea | लगातार चाय पीने से पहले जानिए इसके 5 गंभीर साइड इफेक्ट्स!

चाय पीने से पहले जानिए इसके 5 गंभीर साइड इफेक्ट्स!

इस दुनिया में ऐसे लोगों की कमी नहीं है जो चाय पीना पसंद करते हैं और एक बार किसी को चाय पीने की आदत पड़ जाए तो उस आदत को लत लगने में देर नहीं लगती। अगर आप दूध से बनी चाय पीने के शौकीन हैं तो आपको चाय के साइड इफेक्ट से जुड़ी कुछ बातें जाननी चाहिए।

चाय पीने के 5 गंभीर साइड इफेक्ट्स!

1/6

इस दुनिया में ऐसे लोगों की कमी नहीं है जो चाय पीना पसंद करते हैं और एक बार किसी को चाय पीने की आदत पड़ जाए तो उस आदत को लत लगने में देर नहीं लगती। अगर आप दूध से बनी चाय पीने के शौकीन हैं तो आपको चाय के साइड इफेक्ट से जुड़ी कुछ बातें जाननी चाहिए।

इस दुनिया में ऐसे लोगों की कमी नहीं है जो चाय पीना पसंद करते हैं और एक बार किसी को चाय पीने की आदत पड़ जाए तो उस आदत को लत लगने में देर नहीं लगती। अगर आप दूध से बनी चाय पीने के शौकीन हैं तो आपको चाय के साइड इफेक्ट से जुड़ी कुछ बातें जाननी चाहिए।

2/6

निकोटीन या कैफीन के सेवन से पेट में एसिड बनता है। ऐसे में अगर आप चाय के आदी हैं तो आपके पेट में गैस और एसिडिटी की समस्या होने लगती है और पाचन क्रिया धीमी हो जाती है। पाचन क्रिया धीमी होने से पूरा पाचन तंत्र अस्त-व्यस्त हो जाता है और सारी समस्याएं आपके पूरे शरीर को परेशान करने लगती हैं। खाली पेट चाय पीने से समस्या और बढ़ जाती है और अक्सर मतली और परेशानी होती है।

निकोटीन या कैफीन के सेवन से पेट में एसिड बनता है। ऐसे में अगर आप चाय के आदी हैं तो आपके पेट में गैस और एसिडिटी की समस्या होने लगती है और पाचन क्रिया धीमी हो जाती है। पाचन क्रिया धीमी होने से पूरा पाचन तंत्र अस्त-व्यस्त हो जाता है और सारी समस्याएं आपके पूरे शरीर को परेशान करने लगती हैं। खाली पेट चाय पीने से यह समस्या बढ़ जाती है और अक्सर मतली और परेशानी होती है।

3/6

इसमें मौजूद कैफीन के कारण चाय पीने से आपके शरीर को तुरंत एनर्जी मिलती है। लेकिन यह ऊर्जा जितनी तेजी से शरीर में प्रवेश करती है, उतनी ही तेजी से चली जाती है। ऐसे में काम करने वाले लोग कभी-कभी चाय पीते हैं। इससे शरीर में निकोटिन और कैफीन की मात्रा बढ़ जाती है और ऐसे में रात की नींद पर बड़ा असर पड़ता है। नींद की कमी से शरीर में थकान, गुस्सा, चिड़चिड़ापन और तनाव जैसी समस्याएं होने लगती हैं।

इसमें मौजूद कैफीन के कारण चाय पीने से आपके शरीर को तुरंत एनर्जी मिलती है। लेकिन यह ऊर्जा जितनी तेजी से शरीर में प्रवेश करती है, उतनी ही तेजी से चली जाती है। ऐसे में काम करने वाले लोग कभी-कभी चाय पीते हैं। इससे शरीर में निकोटिन और कैफीन की मात्रा बढ़ जाती है और ऐसे में रात की नींद पर बड़ा असर पड़ता है। नींद की कमी से शरीर में थकान, गुस्सा, चिड़चिड़ापन और तनाव जैसी समस्याएं होने लगती हैं।

4/6

आपको जानकर हैरानी होगी कि आजकल लोगों में गठिया की समस्या बहुत ज्यादा है, इसका एक कारण ज्यादा चाय पीना भी है। बहुत अधिक चाय पीने से हड्डियों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है और आपका शरीर अंदर से खोखला हो जाता है। इससे जोड़ों के दर्द की समस्या समय से पहले शुरू हो जाती है।

आपको जानकर हैरानी होगी कि आजकल लोगों में गठिया की समस्या बहुत ज्यादा है, इसका एक कारण ज्यादा चाय पीना भी है। बहुत अधिक चाय पीने से हड्डियों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है और आपका शरीर अंदर से खोखला हो जाता है। इससे जोड़ों के दर्द की समस्या समय से पहले शुरू हो जाती है।

5/6

ज्यादातर लोग मजबूत और गर्म चाय पीना पसंद करते हैं। लेकिन, गर्म चाय पीने से पेट के अंदरूनी हिस्से में दर्द होता है। अगर समय रहते इस आदत को नहीं छोड़ा गया तो यह चोट बाद में अल्सर का रूप ले लेती है।

ज्यादातर लोग मजबूत और गर्म चाय पीना पसंद करते हैं। लेकिन, गर्म चाय पीने से पेट के अंदरूनी हिस्से में दर्द होता है। अगर समय रहते इस आदत को नहीं छोड़ा गया तो यह चोट बाद में अल्सर का रूप ले लेती है।

6/6

बहुत से लोग भूख लगने पर खाली पेट चाय पीते हैं और अपनी भूख को संतुष्ट करते हैं। हालांकि, खाली पेट चाय पीने से कभी-कभी हृदय गति बढ़ जाती है, क्योंकि चाय में मौजूद कैफीन शरीर में बहुत जल्दी घुल जाता है। नतीजतन, रक्तचाप भी तेजी से प्रभावित होता है। यह स्थिति आपके हृदय स्वास्थ्य के लिए अच्छी नहीं है। यह बदले में, हृदय संबंधी समस्याओं के जोखिम को बढ़ाता है।

बहुत से लोग भूख लगने पर खाली पेट चाय पीते हैं और अपनी भूख को संतुष्ट करते हैं। हालांकि, खाली पेट चाय पीने से कभी-कभी हृदय गति बढ़ जाती है, क्योंकि चाय में मौजूद कैफीन शरीर में बहुत जल्दी घुल जाता है। नतीजतन, रक्तचाप भी तेजी से प्रभावित होता है। यह स्थिति आपके हृदय स्वास्थ्य के लिए अच्छी नहीं है। यह बदले में, हृदय संबंधी समस्याओं के जोखिम को बढ़ाता है।

प्रधानमंत्री मोदी ने 14 अगस्त को ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ घोषित किया!

News Hindi TV

Latest hindi News Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *