गलती से ‘यह’ खाना न बनाएं

गलती से ‘यह’ खाना न बनाएं; फायदे की जगह नुकसान होगा

गलती से ‘यह’ खाना न बनाएं
नई दिल्ली, 22 अगस्त : कोरोना काल में (कोरोना काल में) हम सभी स्वास्थ्य के प्रति जागरूक हैं (स्वास्थ्य जागरूकता) हमने कर लिया। इसलिए हर कोई यह जानने की कोशिश कर रहा है कि क्या खाना चाहिए। लेकिन, हम नहीं जानते कि कुछ खाद्य पदार्थ कैसे खाएं। इसलिए कच्चा खाना भी पकाया जाता है। इसलिए इसमें मौजूद पोषक तत्व (न्युट्रीनो) इसलिए कोई स्वास्थ्य लाभ नहीं (स्वास्थ्य सुविधाएं) नहीं होता है। इतना ही नहीं यह सेहत के लिए हानिकारक है (स्वास्थ्य के लिए हानिकारक) निर्धारित किए गए है। आइए जानें कि कौन से खाद्य पदार्थ कच्चे हैं (कच्चा) खाना महत्वपूर्ण है।
सूखे मेवे
अक्सर लोग भुने हुए काजू, बादाम, नमकीन पिस्ता पसंद करते हैं। नमकीन और भुने हुए मेवे खाने में अच्छे लगते हैं. लेकिन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं। कच्चे सूखे मेवे खाना फायदेमंद होता है। इसके विपरीत अगर भुना या नमकीन खाया जाए तो इससे वजन बढ़ सकता है।
लाल शिमला मिर्च
लाल शिमला मिर्च को कभी भी पका कर नहीं खाना चाहिए। कच्चा खाना पकाने से ज्यादा फायदेमंद होता है। दरअसल, इसमें विटामिन सी होता है। शिमला को पकाते समय विटामिन सी की कमी हो जाती है। हृदय रोग की भी संभावना रहती है।

 

नारियल
नारियल में सोडियम, मैग्नीशियम जैसे कई पोषक तत्व होते हैं जो आपकी सेहत के लिए काफी फायदेमंद माने जाते हैं। लेकिन जब नारियल को पकाया जाता है तो उसमें मौजूद सारे पोषक तत्व खत्म हो जाते हैं।

ब्रोकोली
ब्रोकली को केवल कच्चा ही इस्तेमाल करें, कभी पकाकर नहीं। ब्रोकली विटामिन सी, पोटैशियम और प्रोटीन से भरपूर होती है। जो थायराइड हार्मोन के उत्पादन को कम करता है। हालांकि ब्रोकली को पकाने से इसके सारे पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं।

खीरा
खीरा कभी भी कच्चा न खाएं। खीरे में बीटा कैरोटीन और विटामिन सी जैसे एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। जो आपकी इम्युनिटी को बूस्ट करता है। वजन कम करने के लिए खीरा खाएं। हालांकि, खीरा पकाने से इसके पोषक तत्व कम हो जाते हैं। खीरे में 90 प्रतिशत पानी होता है। यह शरीर को हाइड्रेट रखता है लेकिन खाना पकाने की प्रक्रिया में पानी की मात्रा को कम करता है।

टमाटर
हम सब्जियों में जो सूप इस्तेमाल करते हैं, वह टमाटर भी बनाते हैं। हालांकि, जब टमाटर पकते हैं, तो वे अपने पोषक तत्व खो देते हैं। टमाटर में आयरन, फोलेट एसिड, मिनरल्स होते हैं। पकाने से ये तत्व नष्ट हो जाते हैं। रोजाना एक गिलास टमाटर का रस दिल को स्वस्थ रखता है। टमाटर का रस चरण एक उच्च रक्तचाप और एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में भी मदद करता है।

तनाव के कारण सिरदर्द? इस विधि का प्रयोग करें

News Hindi TV

Latest hindi News Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *