Affiliate Marketing से पैसे कैसे कमाए?

Affiliate Marketing से पैसे कैसे कमाए ? | Affiliate Marketing in Hindi

Affiliate Marketing क्या है हिंदी में: Affiliate Marketing कैसे काम करता है और इससे पैसे कैसे कमाए इस बारे में आपको कई तरह के संदेह हो सकते हैं। आज हम आपको इसके बारे में सब कुछ बताने जा रहे हैं। आज का जमाना कंप्यूटर, इंटरनेट और ऑनलाइन शॉपिंग/मार्केटिंग का है।

आजकल ऑनलाइन शॉपिंग का चलन है। चूंकि यह आजकल अधिक से अधिक लोकप्रिय हो रहा है, लोग अब ऑनलाइन व्यापार करने पर जोर दे रहे हैं। इसलिए लोग अब खुद ई-कॉमर्स साइट और ब्लॉग बनाकर पैसा कमा रहे हैं।

जो लोग लंबे समय से ऑनलाइन बिजनेस कर रहे हैं उन्हें एफिलिएट मार्केटिंग के बारे में जरूर पता होना चाहिए। बहुत सारे ब्लॉगर हैं जो वर्तमान में अपने ब्लॉग में इसका उपयोग कर रहे हैं लेकिन कई ब्लॉगर ऐसे भी हैं जो अपने ब्लॉग में एफिलिएट मार्केटिंग का उपयोग नहीं कर रहे हैं। ऐसे कई कारण हो सकते हैं जैसे कि उन्हें Affiliate Marketing के बारे में पता नहीं है या वे इस बात को लेकर कन्फ्यूज हैं कि क्या हम इस Affiliate Marketing को अपने ब्लॉग में इस्तेमाल कर सकते हैं? क्या एफिलिएट लिंक देने से फायदा होगा और क्या यह इसके लायक है?

आज इस लेख के माध्यम से मैं आपको बताऊंगा कि Affiliate Marketing क्या है? इसकी जानकारी हम देंगे। इस लेख के माध्यम से जिन ब्लॉगर को कुछ ज्ञान है वे इसका उपयोग करके आसानी से अपनी आय बढ़ा सकते हैं। जो ब्लॉगर एफिलिएट मार्केटिंग के बारे में बिल्कुल नहीं जानते हैं वो इस आर्टिकल के जरिए एफिलिएट मार्केटिंग के बारे में जान सकते हैं और अपने ब्लॉग में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

आपको इस लेख को पूरा पढ़ना होगा ताकि Affiliate Marketing के बारे में आपके सभी संदेह दूर हो जाएं। तो चलिए बिना समय गवाए शुरू करते हैं….

Affiliate Marketing
Affiliate Marketing

एफिलिएट मार्केटिंग क्या है? | Affiliate Marketing in Hindi

Affiliate Marketing एक ऐसा तरीका है जिसके द्वारा एक ब्लॉगर अपनी वेबसाइट के माध्यम से किसी भी कंपनी के उत्पादों को बेचकर कमीशन कमा सकता है। आपको जो कमीशन मिलेगा वह प्रोडक्ट पर निर्भर करेगा। यानी अगर प्रोडक्ट फैशन और लाइफस्टाइल कैटिगरी में है तो कमीशन ज्यादा होगा और अगर इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट है तो कमीशन कम।
अगर आप किसी भी तरह के प्रोडक्ट को प्रमोट करना चाहते हैं तो आपको अपनी वेबसाइट पर अच्छा ट्रैफिक होना चाहिए। अगर आपके पास रोजाना कम से कम 5000 विजिटर हैं तो आपको अच्छा प्रॉफिट मिल सकता है। यदि आपकी वेबसाइट नई है और उसके कुछ विज़िटर हैं, तो अपने ब्लॉग पर उत्पाद विज्ञापन डालने से भी आपको जो लाभ मिलेगा, वह उतना नहीं है।

इसलिए अपने ब्लॉग में Affiliate Products को बढ़ावा देना तभी उचित होगा जब आपके ब्लॉग पर अच्छी मात्रा में विज़िटर आ रहे हों।

क्या ऑनलाइन पैसा कमाना आसान है? | How to earn Money Online?

ऑनलाइन फील्ड से जुड़े लोगों के लिए इस सवाल का जवाब जानना बेहद जरूरी है। अगर वे एफिलिएट मार्केटिंग शुरू करना चाहते हैं तो उनके लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि एफिलिएट मार्केटिंग कैसे काम करती है। यदि कोई उत्पाद आधारित कंपनी या संगठन अपने उत्पादों की बिक्री बढ़ाना चाहता है, तो वे अपने उत्पादों का प्रचार करना चाहते हैं। उसके लिए उन्हें अपना Affiliate Program शुरू करना होगा।

Affiliate Marketing एक ऐसा Business है जो पूरी तरह से Commission के आधार पर चलता है। जब कोई व्यक्ति, चाहे वह ब्लॉगर हो या वेबसाइट का मालिक, इस सहबद्ध कार्यक्रम में शामिल होता है, तो कंपनी या संगठन उसे ब्लॉग या वेबसाइट पर उत्पाद को बढ़ावा देने के लिए एक बैनर या लिंक देता है। इसके अलावा ब्लॉगर अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर अलग-अलग जगहों पर बैनर लगाना चाहता है।

यदि किसी ब्लॉग या वेबसाइट पर बहुत सारे विज़िटर हैं, तो उनमें से कुछ निश्चित रूप से उस उत्पाद पर क्लिक करेंगे। अक्सर वो लोग साइट पर जाकर साइन अप करते हैं भले ही वो प्रोडक्ट न खरीदें। कुछ उत्पाद आधारित कंपनियां आपको इसके लिए कमीशन देती हैं जबकि कुछ कंपनियां उत्पाद बेचने के बाद कमीशन देती हैं।

Affiliate Marketing के बारे में कुछ महत्वपूर्ण अवधारणाएँ

Affiliate Marketing में उपयोग किए जाने वाले कुछ शब्द निम्नलिखित हैं। हमें इन अवधारणाओं यानी शर्तों को जानने की जरूरत है। तो आइए जानें ऐसे ही कॉन्सेप्ट्स के बारे में।

1. Affiliates: Affiliates वे लोग होते हैं जो किसी Affiliate Program से जुड़ते हैं। ये लोग उन कंपनियों के उत्पादों को अपने सोर्स यानी ब्लॉग या वेबसाइट पर प्रमोट करते हैं। यह व्यक्ति कोई भी हो सकता है।

2. Affiliate Marketplace: कुछ ऐसी कंपनियां हैं जो अलग-अलग कैटेगरी में एफिलिएट प्रोग्राम ऑफर करती हैं। उन साइटों को एफिलिएट मार्केटप्लेस के रूप में जाना जाता है।

3. Affiliate id: यह एक Unique id है जो आपको Sign up करने के बाद मिलती है। आप जिस संबद्ध कार्यक्रम में शामिल होते हैं, उसके आधार पर आपको एक विशिष्ट आईडी दी जाती है। यह आपको बिक्री के बारे में जानकारी प्राप्त करने में मदद करता है। इस आईडी के जरिए आप अपना एफिलिएट अकाउंट लॉगइन कर सकते हैं।

4. Affiliate Link: ये वो Links होते हैं जो Affiliate को Product को बढ़ावा देने के लिए Links प्रदान करते हैं। इन लिंक्स पर क्लिक करके, विज़िटर उत्पाद पृष्ठ पर पहुंच जाते हैं। जहां वे जाकर कोई उत्पाद खरीद सकते हैं। सहबद्ध कार्यक्रमों में बिक्री को इन लिंक के माध्यम से ट्रैक किया जाता है।

5. Commission: एक सफल सेल के बाद Blogger या Affiliate को भुगतान की जाने वाली राशि को Commission कहा जाता है। इस राशि का भुगतान प्रति बिक्री सहयोगी को किया जाता है। यह राशि बिक्री का कुछ प्रतिशत हो सकती है। यह राशि या तो उस सेल का प्रतिशत हो सकती है या उस पर एक निश्चित राशि का भुगतान किया जाता है। इसके बारे में पूरी जानकारी नियम और शर्तों में दी गई है।

6. Link Clocking: संबद्ध लिंक लंबे होते हैं और अलग दिखते हैं। इसलिए उन्हें URL शॉर्टनर का उपयोग करके छोटा किया जाता है। इसे लिंक क्लॉकिंग कहते हैं।

7. Affiliate Manager: कुछ Affiliate Programs में Affiliates की मदद और सलाह देने के लिए किसी न किसी व्यक्ति को नियुक्त किया जाता है, उन्हें Affiliate Manager कहा जाता है।

8. Payment Mode: भुगतान के तरीके को भुगतान मोड कहा जाता है। इसके जरिए आपको कमीशन दिया जाएगा। अलग-अलग सहयोगी अलग-अलग मोड दे रहे हैं। इसमें चेक, वायर ट्रांसफर, पेपाल आदि जैसे भुगतान मोड हैं।

9. Payment Threshold: Affiliate Marketing में, Affiliates को Commission का भुगतान किया जाता है। यह एक निश्चित न्यूनतम भुगतान है। Affiliate को यह भुगतान एक सीमा के बाद मिलता है। इसका मतलब है कि उसके एफिलिएट खाते में राशि प्राप्त होने के बाद, वह भुगतान मोड के माध्यम से खाते में ले जा सकता है।

एफिलिएट मार्केटिंग से पैसे कैसे कमाए ? | How to earn from Affiliate Marketing in Hindi?

आज कई ब्लॉगर ब्लॉगिंग में एफिलिएट मार्केटिंग का इस्तेमाल कर लाखों रुपये कमा रहे हैं। Affiliate Marketing ब्लॉगिंग से पैसे कमाने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है। एफिलिएट मार्केटिंग से कमाई करने के लिए आपको किसी भी एफिलिएट प्रोग्राम से जुड़ना होगा।

Register करने के बाद उस Affiliate network के माध्यम से प्राप्त ads और Products को अपने Blog में Add करना होता है। जब विज़िटर आपके ब्लॉग पर आते हैं और उस विज्ञापन पर क्लिक करते हैं और उत्पाद खरीदते हैं, तो आपको कंपनी के मालिक से कमीशन मिलता है।

यहां सवाल उठता है कि कौन सी कंपनी आपको एफिलिएट प्रोग्राम ऑफर कर रही है। तो इसका जवाब है कि इंटरनेट पर बहुत सी ऐसी कंपनियां हैं जो आपको Affiliate Programs ऑफर करती हैं। उनमें से कुछ बहुत प्रसिद्ध भी हैं जिनमें अमेज़न, फ्लिपकार्ट, स्नैपडील और गोडाडी शामिल हैं।

इस प्रकार कई कंपनियाँ आपको Affiliate Program प्रदान करती हैं। आप सिर्फ साइनअप या रजिस्टर करके इसमें शामिल हो सकते हैं। आप अपनी वेबसाइट पर इन कंपनियों के प्रोडक्ट लिंक को ऐड करके बहुत अच्छा पैसा कमा सकते हैं। यदि आप सहबद्ध कार्यक्रम के लिए साइन अप करना चाहते हैं, तो आपको कंपनी को कुछ भी भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है। सब कुछ मुफ़्त है।

आपको इसका जवाब मिल जाएगा कि कौन सी कंपनियां गूगल के जरिए एफिलिएट प्रोग्राम की सर्विस देती हैं। इसके लिए आपको गूगल सर्च करना होगा। मान लीजिए आप Affiliate Program amazon के बारे में जानकारी चाहते हैं, तो आपको Google, amazon और फिर Affiliate पर कंपनी का नाम सर्च करने से फायदा होगा। अगर वो कंपनी आपको Affiliate Program ऑफर करती है तो आपको वो डाटा Google पर मिल जाएगा. फिर आप आसानी से एफिलिएट प्रोग्राम से जुड़ सकते हैं। किसी भी एफिलिएट प्रोग्राम में शामिल होने से पहले उनके नियम और शर्तें एक बार पढ़ लें।

Affiliate Program से Payment कैसे प्राप्त करें? | How to get Payment from Affiliate Program?

यह प्रत्येक सहबद्ध कार्यक्रम पर निर्भर करता है कि वे अपने सहयोगियों को भुगतान करने के लिए कौन सा तरीका चुनते हैं। भुगतान के लिए लगभग सभी प्रोग्राम बैंक ट्रांसफर या पेपाल का उपयोग करते हैं। संबद्ध विपणन कुछ शर्तों का उपयोग करता है जिसके आधार पर उपयोगकर्ता को भुगतान किया जाता है।

1) CPM (Cost Per 1000 Impressions): यह वह राशि है जो मर्चेंट यानी उत्पाद का मालिक सहयोगी द्वारा रखे गए विज्ञापनों पर 1000 दृश्य प्राप्त करने के बाद भुगतान करता है यानी उत्पाद का विज्ञापन करने वाला। यह भुगतान व्यापारी द्वारा संबद्ध को दिया जाता है।

2) CPS (Cost Per Sale): यह राशि Affiliate को तभी मिलती है जब Blog के आगंतुक उस उत्पाद को खरीदते हैं। जितने अधिक लोग उत्पाद खरीदते हैं, उतना अधिक सहबद्ध को व्यापारी से कमीशन मिलता है।

3) CPC (Cost Per Click): Affiliate के ब्लॉग पर पोस्ट किए गए विज्ञापन, टेक्स्ट, बैनर पर विज़िटर द्वारा क्लिक करने पर कमीशन मिलता है।

क्या हम Affiliate Marketing और Google Adsense को एक साथ इस्तेमाल कर सकते हैं?

इसका जवाब है हाँ! Affiliate Marketing से हम google adsense की तुलना में बहुत ही कम समय में अधिक पैसा कमा सकते हैं। यह निश्चित रूप से Google adsense की शर्तों के विरुद्ध नहीं है क्योंकि यह कानूनी है। इन दोनों का इस्तेमाल आप अपने ब्लॉग में आसानी से कर सकते हैं।

Google Adsense का अप्रूवल पाने के लिए आपको काफी मेहनत करनी पड़ती है। लेकिन Affiliate Marketing के लिए इतने प्रयास की आवश्यकता नहीं होती है। Affiliate Marketing से पैसे कमाने के लिए बहुत से Bloggers आगे आ रहे हैं। आपके ब्लॉग से जितने अधिक उत्पाद बेचे जाएंगे, उतनी ही अधिक आय होगी।

अगर आप अपने ब्लॉग से संबंधित विज्ञापन लगा रहे हैं तो आपको इससे फायदा होगा। बात यह है कि अगर आपका ब्लॉग गैजेट्स के बारे में है तो आपको उस पर Affiliate ads लगाना चाहिए। इससे ब्लॉग के विज्ञापनों पर क्लिक करने की संभावना बढ़ जाएगी और बहुत लाभ होगा।

लोकप्रिय एफिलिएट मार्केटिंग साइटें कोनसे है? Which are the popular affiliate marketing sites?

इंटरनेट पर बहुत सी एफिलिएट मार्केटिंग कंपनियां हैं लेकिन आज मैं आपको कुछ लोकप्रिय और बेहतरीन कंपनियों के बारे में बताने जा रहा हूं जो आपको ज्यादा से ज्यादा कमीशन देगी। किसी भी Affiliate Program को Join करने से पहले आपको Program के बारे में सब कुछ पता होना चाहिए। अगर आप उस कंपनी के एफिलिएट मार्केटिंग प्रोग्राम के बारे में जानना चाहते हैं तो अगर आप गूगल जैसे सर्च इंजन पर कंपनी के नाम के आगे एफिलिएट प्रोग्राम एंटर करते हैं तो आपको उस कंपनी के रिजल्ट की जानकारी मिल जाएगी।

बेस्ट एफिलिएट मार्केटिंग साइट्स | Best Affiliate Marketing Sites

1. Amazon Affiliate
2. Flipkart Affiliate
3. Clickbank
4. Commission Junction
5. eBay

एफिलिएट मार्केटिंग साइट्स से कैसे जुड़ें? | How to Join Affiliate Marketing Sites?

अगर आप एफिलिएट मार्केटिंग साइट्स से जुड़ रहे हैं तो आपको इतनी सारी प्रक्रिया से गुजरने की जरूरत नहीं है। इसके लिए आप कुछ स्टेप्स को फॉलो करके एफिलिएट इनकम शुरू कर सकते हैं। यहां हम आपको बता रहे हैं कि अमेजन एफिलिएट से कैसे जुड़ें। सबसे पहले आपको उस कंपनी के एफिलिएट पेज पर जाना होगा जिसके एफिलिएट प्रोग्राम से आप जुड़ना चाहते हैं। जैसे अगर आप अमेज़न एफिलिएट से जुड़ना चाहते हैं तो आपको एक नया अकाउंट बनाना होगा। यहां आपको कई जरूरी चीजें भरनी होती हैं।

  • नाम,
  • पता,
  • ईमेल आईडी,
  • मोबाइल नंबर,
  • पैन कार्ड विवरण,
  • ब्लॉग/वेबसाइट का यूआरएल (यहां आप कंपनी के उत्पादों का प्रचार करेंगे),
  • भुगतान विवरण (जहां आपकी सारी कमाई भेजी जाती है)

सारी जानकारी सही से भरने के बाद जब आप रजिस्टर करेंगे तो कंपनी आपके ब्लॉग या वेबसाइट को चेक करेगी और आपको एक कन्फर्मेशन मेल भेजेगी। रजिस्ट्रेशन करने के बाद जब आप लॉग इन करेंगे तो आपके सामने एक डैशबोर्ड दिखाई देगा। यहां आप अपना डैशबोर्ड देख सकते हैं और उसमें से एक उत्पाद का चयन कर सकते हैं और उसके विज्ञापन और लिंक को कॉपी कर सकते हैं। यह वह लिंक है जो अब आपको कहीं भेजनी है ताकि लोग उस पर क्लिक करें और फिर उत्पाद खरीदें और आपको कमीशन मिले।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न संबद्ध विपणन | QnA

क्या किसी वेबसाइट पर एफिलिएट मार्केटिंग और ऐडसेंस जैसे विज्ञापन नेटवर्क का इस्तेमाल किया जा सकता है?

हाँ, अवश्य ही किया जा सकता है। Affiliate Marketing और Ad Network दोनों को एक साथ इस्तेमाल किया जा सकता है। बहुत से लोग एफिलिएट मार्केटिंग से एड नेटवर्क से ज्यादा पैसा कमाते हैं।

क्या Affiliate Marketing में Blog या Website का होना जरूरी है?

यह जरूरी नहीं है, लेकिन अगर आपके पास एक ब्लॉग या वेबसाइट है, तो एफिलिएट मार्केटिंग पैसे कमाने के सबसे बड़े और बेहतरीन तरीकों में से एक है। यहां आपको विजिटर्स लाने की जरूरत नहीं है। विज़िटर अपने आप ब्लॉग पर आ जाते हैं और आप आय अर्जित कर सकते हैं।

क्या सभी कंपनियां और संगठन सहबद्ध कार्यक्रम पेश करते हैं?

क्या सभी कंपनियां Affiliate Programs ऑफर करती हैं, यह थोड़ा मुश्किल है। लेकिन लगभग सभी बड़ी कंपनियां इस प्रोग्राम को ऑफर करती हैं। अगर आप किसी कंपनी के एफिलिएट प्रोग्राम के बारे में जानना चाहते हैं, तो आपको बस गूगल पर कंपनी का नाम और एफिलिएट सर्च करना होगा। सर्च रिजल्ट में आपको सारी जानकारी मिल जाएगी।

क्या Affiliate Marketing से जुड़ने के लिए कोई विशेष कोर्स है?

नहीं। आपको सिर्फ इस आर्टिकल में बताई गई बातों के बारे में जानने की जरूरत है। आप निश्चित रूप से हमारी वेबसाइट पर इसके बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करेंगे।

क्या एफिलिएट प्रोग्राम में शामिल होने के लिए कोई शुल्क है?

सभी मौजूदा कार्यक्रम शामिल होने के लिए स्वतंत्र हैं। अगर कोई आपसे पैसे मांगे तो भी उस कार्यक्रम में शामिल न हों। क्योंकि ये प्रोग्राम नकली हो सकते हैं। एफिलिएट प्रोग्राम पूरी तरह से फ्री हैं।

Affiliate Marketing से हम कितना पैसा कमा सकते हैं?

यह पूरी तरह आप पर निर्भर है कि आप कितनी अच्छी तरह काम करते हैं। आपकी आय इस बात पर निर्भर करती है कि आपके ब्लॉग पर कितने विज़िटर आते हैं और आप उन्हें अपने कार्यक्रम की ओर कैसे आकर्षित करते हैं। आप जितनी ज्यादा सेल्स करते हैं उसके हिसाब से आपको कमीशन भी मिलता है।

Affiliate Program में Payment ठीक से नहीं मिलने पर हमें क्या करना चाहिए?

यदि आपको भुगतान के संबंध में कोई समस्या आती है, तो आपको उस संबद्ध कंपनी की सहायता टीम से संपर्क करने की आवश्यकता है। कंपनी की कई नीतियां हैं जो लगातार बदल रही हैं और इसके कारण कभी-कभी सहयोगी कंपनियों का भुगतान बंद हो जाता है। आपको चिंता करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि भुगतान देर से होगा लेकिन निश्चित है।

निष्कर्ष – Affiliate Marketing meaning in english

तो दोस्तों इस आर्टिकल से What is Affiliate Marketing in Hindi, आप Affiliate Marketing के बारे में पूरी जानकारी और इससे पैसे कैसे कमाएं, समझ गए होंगे। अगर आपको कोई संदेह है तो नीचे टिप्पणी करें।

इसे भी पढ़ें।

10 सर्वश्रेष्ठ इंस्टाग्राम स्टोरी मेकर ऐप्स | 10 Best Instagram Story Maker Apps

सही करियर कैसे चुनें? | How to choose the right Career?

News Hindi TV

Latest hindi News Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published.