Multi Asset Fund : मल्टी-एसेट फंड की सफल रणनीति

Multi Asset Fund : मल्टी-एसेट फंड की सफल रणनीति

कोविड-19 महामारी से पैदा हुए संकट ने रोजगार, (Multi Asset Fund) उद्योग और आय को प्रभावित किया है। इससे निवेशकों को भी परेशानी हुई। जब व्यक्तिगत वित्त की बात आती है, तो सभी अंडों को एक टोकरी में रखने के महत्व पर प्रकाश डाला गया है। अपने सभी अंडे एक टोकरी में न रखें, यदि आप इस नियम का पालन करते हैं, तो संपत्ति में अचानक गिरावट आपके पोर्टफोलियो को ज्यादा प्रभावित नहीं करेगी। क्योंकि वह समय बहुत कम आता है जब सभी प्रकार की संपत्तियों का प्रदर्शन निराशाजनक होता है। इसलिए इस फॉर्मूले का पालन करने की रणनीति निवेशक को किसी भी अस्थिर स्थिति से बचाती है।

Multi Asset Fund
Multi Asset Fund

इस रणनीति को कैसे लागू करें?

इस रणनीति को अमल में लाने का एक आसान तरीका एक Multi Asset Fund में निवेश करना है। सेबी यानी भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड के अनुसार, Multi Asset Fund ऐसे फंड होते हैं जो कम से कम तीन परिसंपत्ति वर्गों में से प्रत्येक में कम से कम 10 प्रतिशत निवेश करते हैं।

एक अच्छा मल्टीसेट फंड कैसे चुनें? | How to choose a good multiset fund?

मल्टीएसेट फंड चुनते समय कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना चाहिए। पूंजी वृद्धि, मुद्रास्फीति संरक्षण और लगातार रिटर्न प्रदान करने की क्षमता। इक्विटी, गोल्ड और डेट विकल्प लंबे समय में तीनों को सफलतापूर्वक पूरा करते हैं। इसलिए Multi Asset Fund चुनते समय इन तीन बातों पर ध्यान देना जरूरी है। साथ ही, नए उभरते आरईआईटी और इनविट्स विकल्प भी आपके रिटर्न को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं। (Multi Asset Fund)

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल मल्टीसेट फंड | ICICI Prudential Multiset Fund 

फिलहाल इस कैटेगरी में एक फंड है जो सभी मानकों पर खरा उतरकर लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। वह फंड है आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल Multi Asset Fund। यह फंड इक्विटी, डेट, गोल्ड और राइट्स या इनविट्स का उपयुक्त मिश्रण है। साथ ही, यह फंड अधिकतम रिटर्न के लिए एक विशेष रणनीति का उपयोग करता है। जिसमें इक्विटी में निवेश अनुपात को बढ़ाकर 80 प्रतिशत कर दिया गया है। वहीं डेट, गोल्ड और रिट/इनवाइट एसेट क्लास में निवेश अनुपात क्रमश: 35 फीसदी, 35 फीसदी और 10 फीसदी है. (Multi Asset Fund)

धन सृजन की यात्रा |Wealth Creation Journey 

मौजूदा हालात को देखते हुए बाजार में भारी अनिश्चितता है। इसमें, यह फंड विभिन्न परिसंपत्ति वर्गों में आपके निवेश का संतुलित आवंटन करता है। इस निवेश योजना के पिछले प्रदर्शन को देखें तो ऐसी रणनीति सफल होती नजर आ रही है। इस योजना ने पिछले पांच साल और 10 साल की अवधि में एक बार भी नकारात्मक रिटर्न नहीं दिया है। अगर इस योजना में शुरुआती निवेश 10 लाख रुपये था, तो आज यह निवेश बढ़कर 4.50 करोड़ रुपये (31 अगस्त 2022 तक) हो गया है। यह नहीं कहा जा सकता कि पिछला प्रदर्शन भविष्य में भी जारी रहेगा या नहीं। बेशक, अवसर अभी तक पारित नहीं हुआ है। इस फंड में निवेश करने का मौका है।

आपके पोर्टफोलियो में मल्टी एसेट फंड होने के महत्वपूर्ण कारण

– संपत्ति में विविधीकरण
– कम जोखिम और स्थिर रिटर्न
– इक्विटी की सभी सीमाओं में लचीला फंड आवंटन
– विविध ऋण पोर्टफोलियो
– मुद्रास्फीति के खिलाफ संरक्षण

विशेषज्ञों का क्या कहना है?

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल के मुख्य निवेश अधिकारी (सीआईओ) एस. नरेन का कहना है कि ऐसे समय में जब बाजार ऐतिहासिक ऊंचाई पर है।
ऐसे में निवेशकों को अपने पोर्टफोलियो एसेट एलोकेशन के बारे में सोचना चाहिए।
उनका कहना है कि निवेशकों को इक्विटी पर ज्यादा ध्यान देने के बजाय दूसरे एसेट क्लास पर विचार करना चाहिए।
यह डेट, गोल्ड और ग्लोबल फंड सहित रियल एस्टेट हो सकता है। (Multi Asset Fund)

एस। नरेन का कहना है कि बहु-परिसंपत्ति निवेशकों को अस्थिर वातावरण में बेहतर रिटर्न अर्जित करने की अनुमति देती है।
इसमें जोखिम भी कम होता है। खौकुख प्रूडेंशियल मल्टी एसेट म्यूचुअल फंड उद्योग में सबसे बड़े मल्टी एसेट फंडों में से एक है।

इस योजना का एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 12,405 करोड़ रुपये है। इस श्रेणी में AUM का 65% से अधिक हिस्सा है।
इस योजना का प्रबंधन एस. नरेन करता है। यह स्कीम इक्विटी में 10-80% निवेश करती है। सोने और ईटीएफ आदि में 10-35% निवेश था।
0-10% रियल एस्टेट ट्रस्ट या आमंत्रण में निवेश किया जाता है।
इस संबंध में आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल के एमडी और सीईओ निमेश शाह का कहना है कि यह योजना धन सृजन में बहुत अच्छा काम करती है। (मल्टी एसेट फंड)

1 लाख रुपये का निवेश 41.46 लाख रुपये में बदल गया

यदि किसी निवेशक ने 31 अक्टूबर 2002 को यानी इस फंड की स्थापना के समय 1 लाख रुपये का निवेश किया था, तो वह राशि आज 41.46 लाख रुपये हो गई है।
21.65% चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर (CAGR) पर प्रतिफल।
इसी अवधि के दौरान निफ्टी 50 18.21 फीसदी के सीएजीआर से लौटा है।
यानी 1 लाख का निवेश केवल 24.05 लाख रुपये हो जाता है।

संपत्ति आवंटन योजना लंबी अवधि के निवेश खाते के लिए अच्छी है।
सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) निवेश का एक अच्छा तरीका है।
अगर किसी ने इस योजना में 10 हजार रुपये का मासिक एसआईपी किया है तो यह राशि आज 1.60 करोड़ रुपये हो गई है।
तो उनका निवेश सिर्फ 22.9 लाख रुपये था।
यानी महीने के लिए 17.78% का सीएजीआर रिटर्न।

और पढ़े :

ई-आधार कार्ड डाउनलोड ट्रिक | E-Aadhaar Card Download Trick

कंप्यूटर वायरस क्या है? | What is a Computer Virus in Hindi?

News Hindi TV

Latest hindi News Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *