इम्युनिटी बढ़ाने के लिए विटामिन और कैल्शियम सप्लीमेंट

क्या बच्चों को इम्युनिटी बढ़ाने के लिए विटामिन और कैल्शियम सप्लीमेंट देना चाहिए, जानिए क्या कहते हैं विशेषज्ञ?

अपने बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए माता-पिता इस बात पर पूरा ध्यान देते हैं कि उनके बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता कैसे विकसित होती है। माता-पिता अक्सर अपने बच्चों को कैल्शियम और विटामिन सप्लीमेंट देते हैं। लेकिन क्या सच में सप्लीमेंट लेने से इम्युनिटी बढ़ती है? आइए जानते हैं क्या कहते हैं विशेषज्ञ। इम्युनिटी

बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने के उपाय
बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने के उपाय

कोरोना काल में बच्चों को सुरक्षित रखना बेहद जरूरी है। ऐसा इसलिए है क्योंकि 12 साल से कम उम्र के बच्चों को अभी तक टीका नहीं लगाया गया है। अपने बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए माता-पिता की प्रतिरक्षा (रोग प्रतिरोधक क्षमता) ध्यान दें कि यह कैसे बढ़ेगा। कई बार माता-पिता आपके होते हैं बच्चों के लिए कैल्शियम और विटामिन की खुराक देना। लेकिन क्या सच में सप्लीमेंट लेने से इम्युनिटी बढ़ती है? इस तरह से बच्चों को पूरक करने के क्या फायदे और नुकसान हैं? यह जानना जरूरी है। बच्चों को सप्लीमेंट तभी दिए जाने चाहिए जब उन्हें वास्तव में उनकी जरूरत हो। विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि बच्चों को सप्लीमेंट देने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है। टैबलेट या पाउडर से कैल्शियम, आयरन, सभी प्रकार के विटामिन (विटामिन) आमतौर पर पूरक कहा जाता है। (बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने के उपाय)

क्या 5 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों को पूरक की आवश्यकता है?

कोकिलाबेन अस्पताल के मुख्य आहार विशेषज्ञ भक्ति सामंत का कहना है कि बच्चों को अपने शरीर के विकास के लिए विटामिन और कैल्शियम की आवश्यकता होती है। अगर बच्चे अच्छा खाते हैं तो उन्हें खाने से कैल्शियम और विटामिन मिलते हैं, लेकिन अगर किसी कारण से कुछ चीजें बच्चों को नहीं दी जाती हैं तो 5 साल से ऊपर के बच्चों को सप्लीमेंट देने में कोई दिक्कत नहीं है। बहुत से बच्चों को घर का खाना बनाना पसंद नहीं होता है। उन्हें जंक फूड खाना पसंद है। ऐसे में उनकी परवरिश ठीक नहीं है. ऐसे बच्चों को सप्लीमेंट्स की जरूरत होती है। (इम्यूनिटी बढ़ाने वाले फ्रूट)

क्या बच्चों को डॉक्टर की सलाह के बिना सप्लीमेंट देना चाहिए?

इस बारे में बात करते हुए भक्ति सामंत का कहना है कि सप्लीमेंट्स भले ही शरीर के विकास में मदद करते हैं, लेकिन उन्हें डॉक्टर की देखरेख में ही बच्चों को देना चाहिए। डॉ भक्ति सामंत के अनुसार बहुत से बच्चे शाकाहारी भोजन करते हैं। शाकाहारी भोजन में बी-12, ओमेगा-3, जिंक, आयरन, विटामिन डी-3 और अन्य पोषक तत्वों की कमी होती है। साथ ही कई बच्चे दूध पीना पसंद नहीं करते हैं। तो हम शाकाहारी बच्चों को डॉक्टर की देखरेख में कुछ सप्लीमेंट दे सकते हैं। (बच्चों की इम्यूनिटी कैसे बढ़ाएं)

क्या मुझे एनर्जी ड्रिंक लेनी चाहिए?

डॉ। भक्ति सामंत के मुताबिक, बाजार में हर उम्र के लोगों खासकर बच्चों के लिए एनर्जी ड्रिंक और एनर्जी बार जैसे कई विकल्प मौजूद हैं। ऊर्जा और शक्ति बढ़ाने की आड़ में इन्हें बेचा जाता है, लेकिन इन्हें पीने से बच्चे का स्वास्थ्य खराब हो सकता है। बच्चों को मोटापा और मधुमेह जैसी कई बीमारियां हो सकती हैं। इसलिए बच्चों को ऐसी चीजें न दें। आप देना चाहते हैं तो बच्चों को घर का बना एनर्जी ड्रिंक दे सकते हैं।

Paytm Cashback Offers : 1000 रुपये तक का लाभ

News Hindi TV

Latest hindi News Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published.