ई-सिम क्या है? | What is e-SIM in Hindi?

ई-सिम क्या है? | What is e-sim in Hindi?

Apple iPhone 14 को 7 सितंबर को लॉन्च (e-SIM) किया गया है। iPhone 14 में कोई फिजिकल सिम नहीं होने की सूचना है। कंपनी ने केवल ई-सिम का ही विकल्प दिया है। हालांकि, e-SIM का कॉन्सेप्ट नया नहीं है। अब तक कई फोन में यह फीचर आ चुका है। लेकिन फिलहाल यह सर्विस सिर्फ उन्हीं फोन्स में उपलब्ध है जिनमें कम से कम एक फिजिकल सिम हो। यानी एक डुअल सिम फोन जिसमें कम से कम एक फिजिकल सिम दी गई हो। वहीं दूसरी तरफ आईफोन से फिजिकल सिम की व्यवस्था खत्म की जा रही है। ऐसे में यूजर्स के सामने बड़ा सवाल यह है कि ई-सिम कैसे काम करता है? और कहां से खरीदें। हालाँकि, भारत में अच्छी बात यह है कि Jio, Airtel और VI ने e-SIM सेवाओं की पेशकश शुरू कर दी है। ऐसे में आज हम आपको जानकारी देने जा रहे हैं कि आप अपने फिजिकल सिम को ई-सिम में कैसे पोर्ट कर सकते हैं?

e-SIM
e-SIM

e-SIM क्या है? | What is e-sim?

ई-सिम का फुल फॉर्म एक एम्बेडेड सब्सक्राइबर आइडेंटिटी मॉड्यूल (Embedded Subscriber Identity Module) है, जो आपके फोन, स्मार्टवॉच या टैबलेट में एम्बेडेड होता है। दरअसल, फोन में अन्य सिम कार्ड की तरह ई-सिम नहीं डाला जा सकता है। कंपनी फोन का निर्माण करते समय खुद ई-सिम बनाती है। यह सिम फोन के हार्डवेयर में ही आता है। यह फोन की जगह बचाता है और एक अलग सिम ट्रे बनाने की आवश्यकता को समाप्त करता है। ई-सिम इन दिनों कई फोन में ट्रेंड कर रहा है। हालांकि, सर्विस के मामले में ई-सिम और रेगुलर फिजिकल सिम में कोई अंतर नहीं है। इसके अतिरिक्त, ई-सिम 4G/5G जैसे सभी नियमित नेटवर्क को सपोर्ट करता है। आप सोच रहे होंगे कि क्या e-SIM को हटाया नहीं गया तो यह केवल एक नेटवर्क पर लॉक हो जाएगा? तो ऐसा नहीं है। ई-सिम एक पोर्टेबल है। इसका मतलब है कि आप आसानी से एक नए नेटवर्क पर स्विच कर सकते हैं।

एक फोन में 5 नंबर कैसे डायल करें? | How to dial 5 Numbers in one Phone?

क्या आप जानते हैं कि e-SIM (विशेष रूप से आईफोन) का समर्थन करने वाले डिवाइस एक ही समय में कई ई-सिम चला सकते हैं? उदाहरण के लिए, आप किसी भौतिक स्लॉट में सिम का उपयोग कर सकते हैं। इसके अलावा आप दूसरे वर्चुअल ई-सिम स्लॉट में मल्टीपल e-SIM का इस्तेमाल कर सकते हैं। हालांकि, एक बात ध्यान देने वाली है कि एक बार में केवल एक ही ई-सिम काम करेगा, जिसे आप जब चाहें स्विच कर सकते हैं।

स्मार्टफोन/डिवाइस जो eSIM को सपोर्ट करते हैं | Smartphones/devices that support eSIM.

e-SIM को भारत में 2018 में आईफोन एक्सआर, एक्सएस और एक्सएस मैक्स के साथ पेश किया गया था, जिसके बाद जियो और एयरटेल दोनों ने जल्द ही ई-सिम के लिए समर्थन की घोषणा की। वहीं बाद में वीआई ने भी ई-सिम को सपोर्ट करने का ऐलान किया। हालांकि, बीएसएनएल ने अभी तक भारत में e-SIM सपोर्ट की घोषणा नहीं की है। Jio, VI और Airtel नियमित फिजिकल सिम की तरह ही ई-सिम के प्रीपेड और पोस्टपेड रिचार्ज पैक पेश करते हैं। वहीं, iPhone XR और XS सीरीज के अलावा भारत में eSIM सपोर्ट वाले और भी फोन हैं, जिनकी लिस्ट नीचे दी गई है।

  • iPhone SE,
  • iPhone 11 series,
  • iPhone 12 series,
  • Moto RAZR flip phone,
  • Samsung Galaxy LTE,
  • Samsung Galaxy Watch Active2,
  • Samsung Galaxy Gear S3,
  • iPhone XR,
  • iPhone 13 Pro Max,
  • Samsung Galaxy S20,
  • Huawei P40,
  • Motorola Raze 2019,
  • Oppo Reno 5A,
  • Gemini PDA,
  • Oppo Reno6 Pro 5G

eSIM को एक फोन से दूसरे फोन में कैसे ट्रांसफर करें? | How to transfer eSIM from one phone to another?

यदि आपने एक नए e-SIM फोन में अपग्रेड किया है, तो आप एक ऑपरेटर स्टोर पर जाकर अपने पुराने मोबाइल फोन से अपना ई-सिम ट्रांसफर कर सकते हैं। चाहे वह एयरटेल हो, जियो या वीआई स्टोर। आपको आपके ई-सिम के लिए अधिकतम एक भौतिक सिम दी जाएगी। इसे अपने नए स्मार्टफोन में डालें और अपने भौतिक सिम को ई-सिम में बदलें।

ई-सिम के फायदे | Advantages of e SIM

ई-सिम को भविष्य की तकनीक कहा जा सकता है, क्योंकि e-SIM निकट भविष्य में हर स्मार्टफोन में देखने को मिलेगा। ई-सिम के कई फायदे हैं।

स्पेस सेविंग – ई-सिम के कारण डिवाइस में अलग से कोई सिम कार्ड ट्रे नहीं है। यह स्थान बचाता है और इस शेष स्थान का उपयोग अन्य महत्वपूर्ण घटकों के लिए किया जा सकता है।

एंटी थेफ्ट – ई-सिम कार्ड का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसे खोया या चोरी नहीं किया जा सकता है। और फोन चोरी हो जाने पर भी चोर सिम कार्ड को फोन से नहीं निकाल सकता। और इसलिए चोर को पकड़ना आसान है।

कम बैटरी खपत – e-SIM सॉफ्टवेयर की मदद से काम करता है। इसलिए यह एक भौतिक सिम कार्ड की तुलना में कम बैटरी की खपत करता है।

नेटवर्क स्विचिंग – e-SIM की मदद से सर्विस प्रोवाइडर बदलना भी आसान है। यदि आप एक एयरटेल ग्राहक हैं और जियो सेवा चाहते हैं, तो आप अपना नंबर या सिम कार्ड बदले बिना जियो सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं।

यात्रियों के लिए सर्वश्रेष्ठ – भारत और विदेश में यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए ई-सिम किसी वरदान से कम नहीं है। क्योंकि यह यात्रियों को रोमिंग चार्ज से बचाता है।

बेहतर सुरक्षा – जानकारों के मुताबिक ई-सिम फिजिकल सिम से ज्यादा सुरक्षित है। सुरक्षा की दृष्टि से देखा जाए तो ई-सिम एक अच्छा विकल्प है।

eSIM की सीमाएं हैं | eSIM has limitations

इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि अगर आप e-SIM सर्विस का इस्तेमाल कर रहे हैं तो आपको सबसे अच्छी कनेक्टिविटी मिलेगी। अगर आप नया सिम खरीदना चाहते हैं तो आपको स्टोर पर जाने की जरूरत नहीं है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यदि आप बार-बार सिम को एक फोन से दूसरे फोन में डालते हैं, तो आपको हर बार एक्टिवेशन प्रक्रिया से गुजरना होगा।

और पढ़े :

शून्य की खोज | नंबर कैसे पढ़ें? | How to Read Numbers in Hindi?

ई-आधार कार्ड डाउनलोड ट्रिक | E-Aadhaar Card Download Trick

News Hindi TV

Latest hindi News Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *