SEO क्या है? | What is SEO in Hindi?

SEO क्या है?, एसईओ हिंदी में जानकारी | What is SEO in Hindi?

SEO क्या है? सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (SEO) कैसे करते है? साथ ही SEO कितने प्रकार के होते हैं? (SEO के प्रकार) एक नए ब्लॉगर के मन में कई सवाल आते हैं। ब्लॉगिंग में सफल होने के लिए यह समझना जरूरी है कि SEO क्या है और यह कैसे काम करता है। (SEO क्या है?)

ब्लॉग लिखते समय हमेशा SEO फ्रेंडली होना चाहिए। ताकि ब्लॉग पोस्ट गूगल के फर्स्ट पेज पर दिख सके। यदि आपकी वेबसाइट Google परिणामों में दिखाई नहीं देती है, तो ब्लॉग पोस्ट लिखने का कोई मतलब नहीं है। (SEO क्या है?)

वेबसाइट पर ट्रैफिक लाने के कई तरीके हैं। लेकिन ऑर्गेनिक ट्रैफिक लाना एक बढ़िया विकल्प है।

SEO क्या है?
SEO क्या है?

ऑर्गेनिक ट्रैफिक क्या है? | What is Organic Traffic?

जब आप Google पर कोई जानकारी खोजते हैं तो आपके सामने कई वेबसाइट उपलब्ध होती हैं। आप सबसे पहले वेबसाइट पर जाएं और मनचाही जानकारी पढ़ें। SEO क्या है?()

इस तरह वेबसाइट को गूगल से ऑर्गेनिक ट्रैफिक मिलता है। यानी जब आप Google पर कोई जानकारी या कीवर्ड सर्च करते हैं तो आपके सामने आने वाले विकल्पों पर क्लिक करके आप उस वेबसाइट पर जाते हैं। इसे ही ऑर्गेनिक ट्रैफिक कहते हैं।

वेबसाइट पर ऑर्गेनिक ट्रैफिक लाने के लिए गूगल सबसे अच्छा विकल्प है। क्योंकि Google का नाम दुनिया में सबसे लोकप्रिय सर्च इंजन के रूप में देखा जा सकता है। छोटी-बड़ी चीजों के लिए हम गूगल करते हैं यानी हम गूगल पर जानकारी सर्च करते हैं। (SEO क्या है?)

लेकिन आपकी वेबसाइट को Google खोज परिणामों में प्रदर्शित करने के लिए, आपको अपनी वेबसाइट को Google के खोज इंजन में सबमिट करना होगा। पिछले लेख में, हमने देखा कि Google Search Console में वेबसाइट कैसे सबमिट करें। (SEO क्या है?)

हर ब्लॉगर अपनी वेबसाइट पर ट्रैफिक लाने के लिए ही वेबसाइट को गूगल को सबमिट करता है। लेकिन आज गूगल जैसे सर्च इंजन हैं जो आपकी वेबसाइट पर ट्रैफिक भी ला सकते हैं। इसलिए वेबसाइट को बिंग, याहू जैसे सर्च इंजन में भी सबमिट करें।

आज के लेख में हम चर्चा करेंगे कि SEO क्या है? और SEO कैसे करें? हम ढूंढ लेंगे। (SEO क्या है?)

सर्च इंजन क्या है? | What is Search Engine?

एक सर्च इंजन एक ऐसा स्थान है जहां सभी जानकारी और लेख एक साथ एकत्र किए जाते हैं। फिर जब कोई सर्च इंजन पर कोई जानकारी खोजता है तो सर्च इंजन उस जानकारी से संबंधित कीवर्ड खोजता है और उस वेबसाइट को पहले पेज पर दिखाता है।

गूगल, बिंग, याहू कुछ लोकप्रिय सर्च इंजन हैं। किसी वेबसाइट को सर्च इंजन में प्रदर्शित करने के लिए, उसे उस सर्च इंजन के वेबमास्टर टूल में सबमिट करना होता है।

एसईओ क्या है? | SEO का फुल फॉर्म | Full form of SEO

SEO का फुल फॉर्म सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन है। SEO हर वेबसाइट, हर ब्लॉग के लिए जरूरी है। SEO अच्छा हो तो वेबसाइट पर ज्यादा से ज्यादा ट्रैफिक आता है। SEO वेबसाइटों को सर्च इंजन में टॉप पर लाने में मदद करता है।

यदि हम Google पर कोई कीवर्ड सर्च करते हैं और उसके परिणाम Google के पहले पेज पर दिखाई देते हैं, तो हम कह सकते हैं कि उस वेबसाइट का SEO अच्छा है।(SEO क्या है?)

SEO तीन प्रकार के होते हैं। यदि आप इसे सही तरीके से करते हैं, तो आपकी वेबसाइट जल्दी से Google के प्रथम पृष्ठ पर दिखाई दे सकती है। और आपको बहुत सारा ऑर्गेनिक ट्रैफिक मिल सकता है। (SEO क्या है?)

SEO के प्रकार क्या हैं? | What are the types of SEO? 

वेबसाइट के अच्छे SEO के लिए ये दोनों प्रकार बहुत महत्वपूर्ण हैं।

1. पृष्ठ पर एसईओ | On Page SEO

On Page SEO में वेबसाइट का डिजाइन और उसमें लिखा कंटेंट सही होना चाहिए। उसके लिए आपकी वेबसाइट SEO फ्रेंडली होनी चाहिए। आपके द्वारा लिखे जाने वाले पोस्ट में मेटा डिस्क्रिप्शन, कंटेंट, पोस्ट टाइटल में आपके मेन कीवर्ड का सही इस्तेमाल होना चाहिए। तो Google तुरंत समझ जाता है कि आपने पोस्ट में क्या लिखा है और आपकी पोस्ट तुरंत रैंक हो जाती है। (SEO क्या है?)

ऑन पेज एसईओ कैसे करें? | How to do On Page SEO?

• कीवर्ड और अनुसंधान | Keywords and Research 

कीवर्ड की मदद से हम अपनी पोस्ट को तुरंत गूगल सर्च रिजल्ट में रैंक कर सकते हैं। लेकिन उसके लिए पोस्ट लिखते समय सही कीवर्ड का चुनाव करना बहुत जरूरी है। हमें एक पोस्ट इस हिसाब से लिखनी चाहिए कि वह कीवर्ड गूगल पर कितनी बार सर्च किया जाता है।

साथ ही पोस्ट में इस्तेमाल होने वाला कीवर्ड बोल्ड होना चाहिए। इसलिए Google के साथ-साथ पोस्ट पढ़ने वाले सभी लोगों को उस कीवर्ड को देखना चाहिए।

कीवर्ड खोजने के लिए कोई भी Google कीवर्ड प्लानर, सेमरश इत्यादि जैसे टूल का उपयोग कर सकता है। (SEO क्या है?)

• फोकस कीवर्ड | Focus Keywords 

हम फोकस कीवर्ड के माध्यम से अपनी वेबसाइट के Main Keyword को रैंक कर सकते हैं। H1 और H2 शीर्षकों में फोकस कीवर्ड का उपयोग किया जाना चाहिए। पोस्ट के पहले पैराग्राफ में भी फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल करना चाहिए।

ताकि Google आपके Main Keyword को रैंक कर सके। यह SEO के लिए बहुत जरूरी है। साथ ही फोकस कीवर्ड 4-5 शब्दों का होना चाहिए।

• विषय | Subject 

जैसा कि ऊपर पढ़ा, पोस्ट की सामग्री भी महत्वपूर्ण है, ठीक फोकस कीवर्ड की तरह। लिखित सामग्री में फोकस कीवर्ड का कम से कम 3-4 बार होना जरूरी है। साथ ही उस कीवर्ड को हाईलाइट या बोल्ड क्यों करें। ताकि इसे तुरंत देखा जा सके। (SEO क्या है?)

साथ ही कंटेंट लिखते समय ऑरिजिनल होना चाहिए। किसी भी वेबसाइट से कॉपी नहीं की जानी चाहिए। साथ ही वेबसाइट पर यूनिक कंटेंट लिखने को महत्व दें। तभी लोग पढ़ने आएंगे। (SEO क्या है?)

• ऑल्ट टैग | Alt Tag

वेबसाइट पर कंटेंट लिखते समय पोस्ट में इमेज का इस्तेमाल करना भी जरूरी है। जो अभी से पाठकों को आकर्षित करेगा। लेकिन पोस्ट में इमेज का इस्तेमाल करते समय ALT टैग देना जरूरी है। आप अपने मुख्य कीवर्ड/फोकस कीवर्ड को ऑल्ट टैग में इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन हर इमेज में एक ही कीवर्ड का इस्तेमाल न करें।

• छवि अनुकूलन | Image Optimization 

प्रत्येक पोस्ट में 2-3 इमेज होनी चाहिए। जो आपकी पोस्ट को आकर्षक बनाता है। लेकिन इमेज रखते समय यह jpg या png फॉर्मेट में होनी चाहिए। Image का उपयोग करते समय उसका Size बड़ा नहीं होना चाहिए। अगर साइज ज्यादा है तो इसका असर आपकी वेबसाइट पर पड़ता है और आपकी पोस्ट जल्दी नहीं खुलती।

साथ ही छवि का आकार हमेशा KB में होना चाहिए। अगर आपकी इमेज एमबी में है तो आप इमेज को कंप्रेस करके केबी में कन्वर्ट कर सकते हैं। इसके लिए आप इन दोनों टूल्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। (SEO क्या है?)

इमेज को कंप्रेस करने के बाद पोस्ट में इस्तेमाल करने से पहले उसे एक नाम देना जरूरी है। उसके लिए आप फोकस कीवर्ड या इमेज के कॉन्टेक्स्ट से जुड़े कीवर्ड का इस्तेमाल करें। (SEO क्या है?)

याद रखें, किसी पोस्ट में इमेज का उपयोग करते समय, उस इमेज का उचित इमेज ऑप्टिमाइजेशन करना आवश्यक है।

• आंतरिक और जावक लिंक | Internal and Outgoing Links 

ये दोनों SEO के लिए महत्वपूर्ण कारक हैं। इंटरनल लिंक्स का अर्थ है आपके द्वारा लिखे गए पोस्ट में अपनी वेबसाइट में अन्य पोस्ट के लिंक देना। यानी अपनी वेबसाइट पर एक पोस्ट से दूसरी पोस्ट पर जाना।

आउटबाउंड लिंक्स में, अपनी पोस्ट में किसी अन्य वेबसाइट का लिंक देना। उदाहरण के लिए, विकिपीडिया का लिंक किसी अन्य वेबसाइट का लिंक है। इसे आउटबाउंड लिंक कहा जाता है। (SEO क्या है?)

• URL और शीर्षक टैग | URL and Title Tags

किसी भी पोस्ट का url बहुत महत्वपूर्ण होता है। क्योंकि उसके द्वारा आपकी वेबसाइट को Google में रैंक मिलती है और लोग पढ़ने के लिए वेबसाइट पर जाते हैं। लेकिन यूआरएल मुख्य कीवर्ड से मेल खाना चाहिए। इससे Google को समझने में आसानी होती है।

साथ ही पोस्ट का टाइटल भी बहुत महत्वपूर्ण होता है। क्योंकि जब कोई गूगल पर सर्च करता है तो उसे यही टाइटल दिखता है। इसलिए शीर्षक आकर्षक और समझने में आसान होना चाहिए।

शीर्षक के साथ-साथ मेटा विवरण भी महत्वपूर्ण है। फोकस कीवर्ड मेटा डिस्क्रिप्शन में आना चाहिए। मेटा विवरण अधिकतम 150 शब्दों का होना चाहिए।

इस तरह हम On Page SEO कर सकते हैं। और अपनी वेबसाइट को गूगल पर रैंक करा सकते हैं। लेकिन On Page SEO के साथ-साथ Off Page SEO भी महत्वपूर्ण है।

2. ऑफ पेज एसईओ | Off Page SEO

उपरोक्त बिंदु में हमने On Page Seo के बारे में पूरी जानकारी सीखी है। जिस तरह एक वेबसाइट के लिए ऑन पेज एसईओ महत्वपूर्ण है, उसी तरह ऑफ पेज एसईओ भी एक वेबसाइट के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण कारक है।

Off Page SEO का मतलब होता है बैकलिंक। अपनी वेबसाइट के लिंक को अन्य साइटों या सोशल मीडिया पर साझा करने का मतलब है अपनी वेबसाइट का बैकलिंक बनाना।

जैसा कि On Page Seo में देखा जाता है, सब कुछ online करना होता है। लेकिन Off Page SEO के साथ ऐसा नहीं है। यहां आपको ऑफलाइन होने पर अपनी वेबसाइट पर ट्रैफिक लाने के लिए काम करना होता है। इस काम के लिए बैकलिंक का इस्तेमाल किया जाता है। बैकलिंक्स दो प्रकार के होते हैं। डू फॉलो और नो फॉलो दो तरह के होते हैं।

अब हम देखेंगे कि Off Page SEO के लिए Backlinks कैसे बनाते हैं।

ऑफ पेज SEO कैसे करें? | How to do Off Page SEO? 

1. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म | Social Media Platforms 

बैकलिंक्स बनाने के लिए यह सबसे अच्छा और सबसे लाभदायक विकल्प है। इसके लिए आपको अपनी वेबसाइट के नाम से सोशल मीडिया अकाउंट बनाना चाहिए। इसे आप Facebook, Instagtam, Twitter जैसे सोशल प्लेटफॉर्म पर बना सकते हैं। फिर अकाउंट के प्रोफाइल में वेबसाइट का लिंक ऐड करें। और शेयर करें। (SEO क्या है? )

जब भी विज़िटर आपके सोशल एकाउंट्स पर आएंगे, वे उस लिंक से आपकी वेबसाइट पर आएंगे। इसका फायदा यह है कि Google आपकी वेबसाइट को तेजी से रैंक करता है। इसलिए सोशल मीडिया अकाउंट्स पर अकाउंट बनाना जरूरी है।

2. दूसरों के ब्लॉग पर टिप्पणी करें | Comment on others’ blogs

इसमें आपको अपने टॉपिक से संबंधित वेबसाइट पर जाकर कमेंट करना है। लेकिन कमेंट करते समय अपनी वेबसाइट के लिंक के अलावा और कुछ न जोड़ें। ऐसा करने से टिप्पणियों के स्वीकृत होने की दर कम हो जाती है। और यह स्पैम के रूप में पकड़ा जाता है। (SEO क्या है?)

3. अतिथि पोस्ट | Guest Post

गेस्ट पोस्टिंग आपकी पोस्ट को किसी और की वेबसाइट पर सबमिट कर रही है। इसका मतलब है कि इसे आपके विषय से संबंधित किसी अन्य वेबसाइट पर पोस्ट किया जाना चाहिए। इससे आपकी वेबसाइट पर 1000 तक ट्रैफिक आ सकता है।

साथ ही आपको यह Do Follow backlink भी मिल जाएगी। जिससे आपकी वेबसाइट को रैंकिंग करने में आसानी होगी।

4. प्रश्न और उत्तर साइटें | Question and Answer Sites 

इन साइट्स पर जाकर वहां पूछे गए सवालों के जवाब दें और वहां अपनी वेबसाइट का लिंक दें। इस तरह उस उत्तर को पढ़कर विज़िटर आपकी वेबसाइट पर आ जाएंगे। (SEO क्या है? )

SEO और SEM के बीच अंतर | Difference Between SEO and SEM 

एसईओ क्या है? यह कैसे करना है? हमने यह देखा। लेकिन SEO और SEM क्या है? और दोनों में क्या अंतर है? आइए अगले लेख में यह सब देखें।

खोज इंजन अनुकूलन (एसईओ) | Search Engine Optimization (SEO)

एसईओ से तात्पर्य सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन है। SEO का उपयोग करके ब्लॉग/वेबसाइट को उचित तरीके से अनुकूलित करके एक ब्लॉग/वेबसाइट को Google के खोज परिणामों में निःशुल्क स्थान दिया जा सकता है।

तो ऑर्गेनिक ट्रैफिक गूगल से आता है। इससे आपको बहुत फायदा भी होता है।

सर्च इंजन मार्केटिंग (SEM) | Search Engine Marketing (SEM)

आप Search Engine Marketing का उपयोग करके अपनी वेबसाइट का विज्ञापन करने के लिए भुगतान कर सकते हैं। इसके लिए आपको Google Ads का इस्तेमाल करना होगा। इसके लिए आपको किसी SEO की जरूरत नहीं है। आप विज्ञापनों का उपयोग करके अपनी वेबसाइट को Google के प्रथम पृष्ठ पर दिखा सकते हैं। और काफी ट्रैफिक मिल सकता है।

SEO क्यों करते हैं? | Why do SEO? 

अगर आप एक वेबसाइट बनाना चाहते हैं और इसके जरिए ऑनलाइन पैसा कमाना चाहते हैं। इसलिए आपके लिए अपनी वेबसाइट को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाना बहुत जरूरी है। जब लोग आपकी वेबसाइट पर आएंगे तभी आपकी वेबसाइट फेमस होगी। जब ज्यादा ट्रैफिक आने लगे तो आप गूगल एडसेंस से वेबसाइट पर ऐड लगाकर पैसे कमा सकते हैं। (SEO क्या है?)

लेकिन यह सब करने के लिए जरूरी है कि आपकी वेबसाइट गूगल सर्च रिजल्ट में रैंक करे। जब आपकी वेबसाइट पहले पेज पर दिखाई देगी, तो यह अधिकतम लोगों तक पहुंचेगी। इसके लिए आपको SEO करना होगा। On Page SEO और Off Page SEO करके आप वेबसाइट को रैंक कर सकते हैं।

SEO क्या है? ( SEO की हिंदी में जानकारी) वेबसाइट के लिए SEO कैसे करें ? और SEO क्यों करते हैं? इसके बारे में पूरी जानकारी हमने आज के इस लेख में सीखी है। इस जानकारी को पढ़कर आप अपनी वेबसाइट का SEO बेहतर कर सकते हैं। साथ ही इस जानकारी को सोशल मीडिया पर शेयर करें। (SEO क्या है?)

और पढ़े :

इंटरनेट क्या है? | What is Internet in Hindi?

सॉलिड स्टेट ड्राइव क्या है? | SSD in Hindi

News Hindi TV

Latest hindi News Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published.