शेयर मार्केट क्या है? | What is Share Market?

Table of Contents

शेयर मार्केट क्या है? | What is Share Market?

आजकल हम सभी को शेयर बाजार (Share Market) के बारे में बात करते हुए देखते हैं। इसी तरह शेयर बाजार में पैसा लगाने या शेयर बाजार में पैसा लगाने की बात करते देखा जाता है। लेकिन सभी लोग शेयर बाजार से पूरी तरह वाकिफ नहीं होते हैं, कुछ लोग आपस में चर्चा से प्रभावित हो जाते हैं और कुछ यूट्यूब पर वीडियो देखकर, लेकिन इन सब में नींव स्थापित होना बाकी है। शेयर बाजार में पैसा लगाना ऑनलाइन पैसा कमाने का एक और विकल्प है जैसे आप नौकरी पाने के लिए पढ़ते हैं और शेयर बाजार में पैसा लगाते हैं तो ए, बी, सी, डी से भी पूरी शिक्षा सीखना जरूरी है तो पैसा कमाना कहां आसान है अन्यथा आधे से अधिक लोग जितना अधिक अनायास पैसा निवेश करते हैं, उतना ही कम समय वह गंवाता है। Share Market

Share Market
Share Market

वित्तीय बाजार | Financial Market

वित्तीय बाजार लोगों को शेयर, बांड आदि में निवेश करने की सुविधा प्रदान करता है। वित्तीय बाजार मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं। Share Market

1) नकद बाजार मुद्रा बाजार | Money Market

मुद्रा बाजार मुख्य रूप से ऋण से संबंधित है, प्रतिभूतियों जैसे ट्रेजरी बिल आदि अल्पकालिक ऋण उपकरणों का व्यापार है। Share Market

2) शेयर बाजार | Share Market / पूंजी बाजार | Capital Market

पूंजी बाजार में शेयरों के साथ-साथ दीर्घकालिक ऋण साधनों का व्यापार होता है। जिसमें डेट और शेयर दोनों का कारोबार होता है।

3) शेयर क्या है? | What are Shares ?

एक शेयर कंपनी के एक हिस्से के मालिक होने का एक कर तरीका है। आप अपने द्वारा निवेश की गई कीमत के अनुपात में कंपनी का प्रतिशत प्राप्त कर सकते हैं। यह भी कहा जा सकता है कि आपके पास कंपनी के शेयरों का एक निश्चित प्रतिशत है। कंपनियों और वित्तीय परिसंपत्तियों के स्वामित्व की इकाइयाँ शेयर हैं।

4) कंपनियों को शेयरों की आवश्यकता क्यों है? | Why Do Company Needs Shares?

कंपनी के विस्तार के लिए, आगामी परियोजनाओं पर काम करने के लिए आवश्यक अतिरिक्त पूंजी शेयरों के माध्यम से जुटाई जाती है। जब शेयर जारी किए जाते हैं, तो निवेशक बाजार मूल्य पर शेयर खरीदता है और कंपनी के एक छोटे हिस्से का मालिक होता है। Share Market

5) कोई कंपनी अपने शेयरों की सूची कैसे जारी करती है? | How does a company list its shares?

जब कोई कंपनी पहली बार जनता को अपने शेयर पेश करती है, तो उसे आईपीओ कहा जाता है। एक कंपनी आईपीओ जारी करके अपने शेयरों को सूचीबद्ध करती है।

6) शेयर बाजार क्या है? | What is Share Market in Hindi?

जिस बाजार में शेयरों का कारोबार या जारी किया जाता है, उसे शेयर बाजार कहा जाता है। शेयर बाजार केवल शेयरों के व्यापार की अनुमति देता है।

Share – शेयर, अपना हिस्सा
Market – बाजारी

वस्तुतः शेयर बाजार एक ऐसी जगह है जहां आप किसी सूचीबद्ध कंपनी के शेयर खरीद या बेच सकते हैं। Share Market

7) शेयर बाजार के प्रकार | Types of Share Market

1) प्राथमिक बाजार |  Primary Market

प्राथमिक बाजार में कंपनी सबसे पहले अपने शेयर जनता को निवेश के लिए पेश करती है।

2) सेकेंडरी मार्केट | Secondary Market

सूचीबद्ध शेयरों का द्वितीयक बाजार में कारोबार होता है। यह लोगों को एक ऐसा मंच प्रदान करता है जहां वे शेयर, ऋण, डिबेंचर आदि खरीदने और बेचने के लिए व्यापार कर सकते हैं। भारत में सभी क्षेत्रीय स्टॉक मार्केट एक्सचेंज उपलब्ध हैं जिनमें कंपनी के शेयरों का कारोबार होता है। लेकिन मुख्य रूप से दो एक्सचेंज ऐसे हैं जिनमें ज्यादातर शेयरों का कारोबार अच्छी मात्रा में होता है। Share Market

8) बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज | Bombay Stock Exchange

  • बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज भारत के साथ-साथ एशिया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है।
  • बीएसई स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना प्रेमचंद रॉयचंद ने 1875 में की थी और वर्तमान में इसके अध्यक्ष सेथुरनाथ रवि हैं।
  • बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज भारत में वित्तीय बाजार को विनियमित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  • बीएसई में ऑनलाइन लेनदेन टी+2 रोलिंग सेटलमेंट के माध्यम से किया जाता है, जिसमें सभी लेनदेन दो दिनों में संसाधित होते हैं। Share Market
  • भारतीय प्रतिभूति विनिमय बोर्ड (सेबी) इन स्टॉक एक्सचेंजों के नियमन के लिए जिम्मेदार है, जो अपने सुचारू कामकाज के लिए नियमित रूप से नियमों को अपडेट करता है। Share Market

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध कंपनी के क्या लाभ हैं?

  • परेशानी मुक्त पूंजी निर्माण
  • कानूनी पर्यवेक्षण
  • समय पर सूचना प्रदर्शन
  • पर्याप्त मूल्य निर्धारण नियम
  • संपार्श्विक गारंटी

9) नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (National Stock Exchange)

  • नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया लिमिटेड (NSE) भारत का सबसे बड़ा वित्तीय बाज़ार और व्यापारिक दुनिया का चौथा सबसे बड़ा बाज़ार है। Share Market
  • नेशनल स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना 1992 में भारतीय शेयर बाजार में पारदर्शिता लाने के लिए की गई थी। Share Market

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) निम्नलिखित खंडों में व्यापार और निवेश प्रदान करता है।

1) इक्विटी | Equity 

  • इक्विटी मार्केट |  Equity Market
  • एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड्स | Exchange Traded Funds
  • सूचकांक| Indices
  • म्युचुअल फंड | Mutual Funds
  • सुरक्षा उधार और उधार योजना | Security Lending & Borrowing Scheme
  • सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड | Sovereign Gold Bond
  • आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) | Initial Public Offering (IPO)
  • संस्थागत नियोजन कार्यक्रम (आईपीपी) | Institutional Placement Program (IPP)
  • बिक्री के लिए प्रस्ताव | Offer for Sale

2) डेरिवेटिव्स | Derivatives

  • इक्विटी डेरिवेटिव्स | Equity Derivatives
  • करेंसी डेरिवेटिव्स | Commodity Derivatives
  • कमोडिटी डेरिवेटिव्स | Currency Derivatives
  • ब्याज दर फ्यूचर्स | Interest Rate Derivatives

3) ऋण | Corporate Bonds

  • कॉर्पोरेट बांड | Corporate Bonds
  • इलेक्ट्रॉनिक डेट बिडिंग प्लेटफॉर्म (ईबीपी) | Electronic Debt Bidding platform (EBP)
  • बातचीत की गई व्यापार रिपोर्टिंग प्लेटफार्म | Negotiated Trade Reporting Platform
  • सरकारी प्रतिभूतियों में गैर प्रतिस्पर्धी बोली | Non Competitive Bidding in Government Securities
  • त्रि-पार्टी रेपो | Tri-party Repo

निवेशकों को बाजार में व्यापार करने में सक्षम होने के लिए, दलालों को एक्सचेंज का सदस्य बनना पड़ता है। दोनों बाजारों का समय सुबह 9:00 बजे से दोपहर 3:30 बजे के बीच है। Share Market

10) इंडेक्स | Index

एन.एस.इ.(NSE) और बी. एस. इ. (BSE) में सूचीबद्ध कंपनियों के आधार पर किया जाता है। मुख्य रूप से दो सूचकांक होते हैं

1) सेंसेक्स | Sensex

2) Nifty | निफ्टी

1) सेंसेक्स | Sensex

  • एन.एस.इ.(NSE) और बी. एस. इ. (BSE) पर आधारित सूचकांक को “सेंसेक्स” कहा जाता है।
    सेंसेक्स पहली बार 1986 में तैयार किया गया था और इसकी गणना बाजार पूंजीकरण भारित आधार पर की गई थी।
  • सेंसेक्स में विभिन्न क्षेत्रों की 30 शीर्ष कंपनियां शामिल हैं।
  • सेंसेक्स भारतीय शेयर बाजार का सबसे पुराना स्टॉक इंडेक्स है और इसका प्रबंधन S&P द्वारा किया जाता है।
  • विश्लेषक और निवेशक भारत की अर्थव्यवस्था और उद्योगों के विस्तार, विकास, गिरावट की निगरानी के लिए सेंसेक्स का उपयोग करते हैं।

2) Nifty | निफ्टी

  • निफ्टी एनएसई पर आधारित इंडेक्स है।
  • निफ्टी में 50 कंपनियां शामिल हैं जो 22 विभिन्न क्षेत्रों पर हावी हैं।
  • निफ्टी का स्ट्रक्चर सेंसेक्स से थोड़ा अलग है। सेंसेक्स की गणना फ्लोटिंग कैपिटलाइज़ेशन के आधार पर की जाती है जबकि निफ्टी की गणना इसमें 50 शेयरों के कुल पूंजीकरण के आधार पर की जाती है।
  • निफ्टी का बेस लेवल 1000 पर कैलकुलेट किया जाता है।
  • निफ्टी 1995 में बना था।
  • निफ्टी का उपयोग बेंचमार्किंग फंड पोर्टफोलियो, इंडेक्स आधारित डेरिवेटिव और इंडेक्स फंड के लिए किया जाता है।
  • निफ्टी में फ्यूचर्स और ऑप्शंस शामिल हैं।

11) स्टॉक मार्केट में पैसा कमाने के विकल्प

  • निवेश |  Investment
  • अटकलें | Speculation
  • हेजिंग और आर्बिट्रेज | Hedging and Arbitrage
  • मर्जिंग फंडिंग और डिविडेंड | Margin Funding and Dividend

 

12) शेयर बाजार में निवेश कैसे करें? How to Invest in Share Market?


अगर आप शेयर बाजार में निवेश करने के बारे में सोच रहे हैं, तो आइए अब हम स्टेप बाय स्टेप जानकारी लेते हैं।

1) डीमैट खाता खोलें | Open Demat Account

सबसे पहले डीमैट अकाउंट खोलें। और इसे उस बैंक खाते से लिंक करें जिसमें आपके पास आमतौर पर बैंक अनुवाद होते हैं।

इस लिंक पर क्लिक करके डीमैट खाता खोलें : https://link.upstox.com/tLkPqrQ5L81ZV8Bg9

डीमैट खाता खोलने के लिए यहां क्लिक करें डीमैट खाता खोलें (मुफ्त डीमैट खाता और शून्य रखरखाव शुल्क) यह ग्रो का डीमैट खाता है जहां आप बहुत ही सरल, समझने में आसान तरीके से निवेश कर सकते हैं।

2) फिर मोबाइल आधारित एप्लिकेशन या वेब प्लेटफॉर्म पर डीमैट खाता खोलें।

3) किए गए स्टॉक विश्लेषण में ट्रेडिंग शुरू करें।

13) डीमैट खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज

1) बैंक खाता,
2) चेक रद्द करें,
3) पैन कार्ड,
4) एड्रेस प्रूफ,
5) पहचान पत्र,

14) शेयर बाजार विश्लेषण के प्रकार | Types of Stock Market Analysis in Hindi

  • तकनीकी विश्लेषण | Technical Analysis
  • मौलिक विश्लेषण | Fundamental Analysis

15) शेयर बाजार में निवेश करने से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? | Factors Need to Understand before Investing in Share Market

1) निवेश के पीछे उद्देश्य | Financial Goals
शेयर बाजार या किसी निवेश माध्यम में पैसा लगाते समय सबसे पहले विचार करने वाली बात यह है कि आपके वित्तीय लक्ष्य क्या हैं, आपके वित्तीय लक्ष्य क्या हैं? निवेश का उद्देश्य सभी के लिए समान नहीं होता है, यह हर व्यक्ति की मासिक, वार्षिक आय के अनुसार अलग-अलग होता है।

2) जोखिम सहनशीलता | Volatility
जोखिम एक महत्वपूर्ण कारक है जिसे आम लोग शेयर बाजार में निवेश करते समय मानते हैं। आपको कितना जोखिम है? कम जोखिम सहने वाले निवेशक ऐसे शेयरों में निवेश करते हैं जो स्थिर रिटर्न देते हैं ताकि बाजार के अस्थिर होने पर उनके पास खोने के लिए कम पैसा हो।

3) विविधता
अपने पोर्टफोलियो को अच्छी तरह से विविधतापूर्ण रखें ताकि आपको कम जोखिम का सामना करना पड़े। अपने निवेश को विभिन्न क्षेत्रों के शेयरों में विविधता दें आप जितना अधिक विभिन्न क्षेत्रों में निवेश करेंगे, वित्तीय जोखिम उतना ही कम होगा।

निष्कर्ष

निष्कर्ष में हम उम्मीद करते हैं कि आज की इस पोस्ट में आपको शेयर बाजार के बारे में ऐसी जानकारी मिली होगी जिसे आप सरल शब्दों में समझ सकते हैं। इस पोस्ट में हमने शेयर बाजार की सभी मूल बातें मराठी में बताई हैं। इस जानकारी के आधार पर आप शेयर बाजार में निवेश करने के लिए प्रेरित होंगे। इस तरह की और जानकारीपूर्ण पोस्ट के लिए हमारा ब्लॉग पढ़ते रहें।

News Hindi TV

Latest hindi News Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published.